नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रशंसक रहे ब्रिटेन के नेता और अर्थशास्त्री मेघनाद देसाई ने मोदी की आलोचना करते हुए उन्हें टीम को साथ नहीं ले कर चलने वाला खिलाड़ी करार दिया, साथ ही कहा कि ‘निराश’ मतदाता उन्हें दोबारा बहुमत नहीं दिलाएगा. देसाई ने कहा कि मोदी ने जरूरत से ज्यादा वादे किए और उन्होंने यह मानने की गलती की कि मजबूत मंत्रिमंडल की बजाए वह कुछ नौकरशाहों की मदद से पूरे देश पर शासन कर सकेंगे जैसा कि उन्होंने गुजरात में मुख्यमंत्री रहने के दौरान किया था. देसाई ने गुरुवार को कहा, बहरहाल लोग निराश हैं. कहीं न कहीं यह भावना है कि अच्छे दिन अब तक नहीं आए.

2019 में नरेंद्र मोदी की जगह पीएम पद का दावेदार बनने के सवाल पर नितिन गडकरी ने दिया ये जवाब

लंदन में बस चुके देसाई ने कहा कि मोदी के पास बड़े अवसर थे. साथ ही उन्होंने कहा कि टीम को साथ ले कर नहीं चलना उनके लिए घातक साबित हो सकता है. उन्होंने कहा, ‘मोदी अच्छे नेता तो हैं लेकिन टीम को साथ ले कर चलने वाले अच्छे खिलाड़ी नहीं हैं, वह टीम के नेता नहीं हैं. वह जन नेता तो हैं, लेकिन टीम लीडर नहीं हैं. उनके मंत्रिमंडल में अरुण जेटली और सुषमा स्वराज को छोड़ कर कोई भी अनुभवी नहीं है.

कमलनाथ के सीएम बनने पर भाजपा विधायक का तंज- ‘लड़का दिखाकर बुड्ढे से ब्‍याह दिया’

देसाई कहते हैं कि इससे ठीक उलट मनमोहन सिंह की अगुवाई वाले संप्रग शासन में प्रणब मुखर्जी, अर्जुन सिंह, शरद पवार और पी चिदंबरम सहित कम से कम छह मंत्रियों के पास प्रधानमंत्री पद की योग्यता थी. उन्होंने कहा कि मोदी को यह अनुमान नहीं था कि चीजें इतनी मुश्किल हो जाएगीं और अब ये ऐसे स्तर पर पहुंच गईं हैं कि उन्हें एक बार और सत्ता में लाने के लिए लोगों से अनुरोध करना पड़ेगा.

मध्य प्रदेश: कांग्रेस में शामिल होंगे चारों निर्दलीय विधायक, कमलनाथ की सरकार को मिलेगी और मजबूती

तीन राज्यों में बीजेपी की हार के बाद लोकसभा चुनाव में बीजेपी की जीत को लेकर तरह-तरह की बातें हो रही हैं. हाल ही में महाराष्ट्र के प्रमुख किसान नेता व वसंतराव नाईक शेटी स्वावलंबन मिशन (वीएनएसएसएम) के अध्यक्ष किशोर तिवारी द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत और महासचिव भैयाजी सुरेश जोशी को पत्र लिखा था. तिवारी ने पत्र में लिखा था कि अगर भाजपा 2019 का चुनाव जीतना चाहती है तो ‘अहंकारी’ मोदी को हटाकर ‘विनम्र’ नितिन गडकरी को उनकी जगह ले आए.

शिवराज सिंह चौहान बोले- टाइगर जिंदा है, हो सकता है सत्ता में वापसी के लिए 5 साल न लगे

हालांकि किशोर तिवारी का पत्र सामने आने के बाद अमित शाह ने भी इस मुद्दे पर बयान दिया था. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह ने नेतृत्व में बदलाव की बात को स्पष्ट रूप से खारिज करते हुए कहा था कि सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में ही 2019 का चुनाव लड़ेगी.

(इनपुट-भाषा)