नई दिल्ली: सीमा सुरक्षाबल (बीएसएफ) के प्रमुख ने यहां रविवार को कहा कि असम में भारत-बांग्लादेश जल सीमा पर अगले साल जुलाई तक ‘स्मार्ट बाड़’ लगाने का काम पूरा हो जाने की उम्मीद है. बीएसएफ महानिदेशक वीके जौहरी ने कहा कि इस साल क्षेत्र में भारी बारिश और फिर बाढ़ आने की वजह से इस परियोजना के पूरा होने में छह महीने की देरी हो गई है.

उन्होंने कहा कि इसकी पहले की समयसीमा दिसंबर 2019 थी. जौहरी बांग्लादेश के अपने समकक्ष बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश (बीजीबी) के महानिदेशक मेजर जनरल शफीन-उल-इस्लाम के साथ प्रेस वार्ता से इतर बात कर रहे थे. बीएसएफ प्रमुख ने कहा कि काम क्रियान्वयन करने के चरण में हैं और यह जुलाई 2020 तक पूरा हो जाना चाहिए.

सीएपीएफ जवानों के लिए 100 दिन छुट्टी की योजना बना रही केंद्र सरकार: अमित शाह

55 किलोमीटर लंबी पट्टी में ‘स्मार्ट बाड़’ लगाने पर काम
बीएसएफ असम में ब्रह्मपुत्र नदी पर धुब्री में 55 किलोमीटर लंबी पट्टी में ‘स्मार्ट बाड़’ लगाने पर काम कर रहा है. नदी के प्रवाह पथ में बदलाव के चलते इस सीमावर्ती क्षेत्र से अवैध प्रवास और मवेशियों की तस्करी होती है.