इंदौर : सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने शनिवार को कहा कि वह पाकिस्तान और बांग्लादेश की सरहदों से सटे कुल 2,000 किलोमीटर लम्बे क्षेत्र की अत्याधुनिक तकनीकों से निगहबानी की अहम योजना पर काम कर रहा है. Also Read - Pakistan ने Ceasefire Violation किया, BSF के दो जवान घायल, आर्मी दे रही करारा जवाब

Also Read - BSF ने देश विरोधी तत्‍वों के मंसूबे नाकाम किए, हथियारों की बड़ी खेप पकड़ी

बीएसएफ के महानिदेशक (डीजी) के के शर्मा ने संवाददाताओं को बताया, “हमने पाकिस्तान और बांग्लादेश की सीमाओं के पास कुल मिलाकर लगभग 2,000 किलोमीटर की लम्बाई में फैले ऐसे क्षेत्रों की पहचान की है जो सुरक्षा की दृष्टि से बेहद संवेदनशील हैं. समय आने पर हम इन क्षेत्रों में अपनी उस योजना का सिलसिलेवार तरीके से विस्तार करेंगे जो अत्याधुनिक तकनीकों और उपकरणों के जरिये भारतीय सरहदों की निगहबानी से जुड़ी है.” उन्होंने कहा, “हो सकता है कि हम आने वाले समय में पाकिस्तान सीमा से लगे क्षेत्रों में इस योजना को अमली जामा पहनाने को अपेक्षाकृत ज्यादा तवज्जो दें.” Also Read - हथियारों के साथ-साथ ड्रग्स की तस्करी के फिराक में था पाकिस्तान, BSF ने मंसूबों को किया नाकाम

UP: डिप्टी सीएम ने कहा- रावण को समय से पहले छोड़ना प्रशासन का फैसला, BJP सरकार की कोई भूमिका नहीं

शर्मा ने बताया कि सीमाओं की सुरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने की इस योजना के तहत बीएसएफ ने जम्मू क्षेत्र में पाकिस्तान सीमा से सटे दो स्थानों पर 5.5-5.5 किलोमीटर के दो खंडों में निगहबानी का विशेष तंत्र विकसित किया है. केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह 17 सितंबर को इसका औपचारिक उद्घाटन करेंगे.

बिहार में न रिटेन एग्जाम, न इंटरव्यू: अंक के आधार पर भी डॉक्टर और इंजीनियर नियुक्त किए जाएंगे

उन्होंने बताया, “सीमा पर किसी भी अवांछित या असामान्य हरकत की स्थिति में हमें इस तंत्र की मदद से फौरन सूचना मिल जायेगी और जरूरत पड़ने पर हम फटाफट प्रतिक्रिया दे सकेंगे.” शर्मा ने कहा, “गर्मी, सर्दी, बर्फबारी और बरसात के प्रतिकूल मौसमी हालात में भी सरहदों की 24 घंटे रक्षा करने वाले बीएसएफ जवानों को इस तंत्र से काफी मदद मिलेगी.”