लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि फर्जी एनकाउंटर को लेकर भी जनता में काफी रोष व बेचौनी है और वे आवाज उठा रहे हैं. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, “यूपी की राजधानी लखनऊ में जब खुलेआम अपराध जारी है तो फिर अन्य जिलों की भी दयनीय स्थिति समझी जा सकती है. फर्जी एनकाउंटर को लेकर भी जनता में काफी रोष व बेचौनी है और वे आवाज उठा रहे हैं. स्पष्ट है कि प्रदेश में कानून का नहीं बल्कि अपराधियों का जंगलराज चल रहा है. सरकार तुरन्त ध्यान दे.”

इससे पहले समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने झांसी में हुए पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर को फर्जी बताते हुए कार्रवाई की मांग की है. उन्होंने पुष्पेंद्र यादव के एनकाउंटर को हत्या करार दिया है. परिजनों ने मांग की है कि जिसने भी ऐसा किया है, उसके विरुद्घ हत्या का मुकदमा दर्ज किया जाए.

PMC घोटाले में वित्त मंत्री ने कहा- सरकार का इससे कोई लेना देना नहीं, RBI के अंडर में आता है को-ऑपरेटिव बैंक

वहीं, झांसी पुलिस ने स्पष्ट किया है कि अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) जनपद झांसी द्वारा मजिस्ट्रियल जांच की जा रही है. उधर एडीजी कानून-व्यवस्था पीवी रामा राव शास्त्री ने कहा, “पुष्पेंद्र यादव के परिजन यदि किसी अन्य एजेंसी से घटना की जांच कराने संबंधी मांग करते हैं, तो उसके अनुरूप आगे की कार्रवाई की जाएगी.”

एडीजी ने बताया, “पांच अक्टूबर की रात झांसी में लूट समेत अन्य धाराओं में तथा पुलिस व पुष्पेंद्र यादव के बीच मुठभेड़ की घटना में दो अलग-अलग मुकदमे दर्ज हैं. दोनों मुकदमे पुलिस की ओर से दर्ज कराए गए हैं. झांसी के एसएसपी के पर्यवेक्षण में विवेचना कराई जा रही है. जोन व रेंज के वरिष्ठ अधिकारी भी पर्यवेक्षण कर रहे हैं.”