नई दिल्ली: अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय का फैसला आने के बाद बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती ने इस फैसले का सम्मान करते हुए कहा कि अब इस संबंध में सौहार्दपूर्ण वातावरण में आगे का काम होना चाहिए. मायावती ने शनिवार दोपहर को फैसले के बाद ट्वीट किया, ‘‘परमपूज्य बाबा साहेब डॉ. भीमराव आम्बेडकर के धर्मनिरपेक्ष संविधान के तहत माननीय उच्चतम न्यायालाय द्वारा राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद के संबंध में आज आम सहमति से दिए गए ऐतिहासिक फैसले का सभी को सम्मान करते हुए अब इस पर सौहार्दपूर्ण वातावरण में आगे काम करनी चाहिए, ऐसी अपील और सलाह है.’

वहीं इस मामले पर केंद्र में भाजपा के गठबंधन सहयोगी और केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान ने शनिवार को दावा किया कि अयोध्या विवाद पर फैसले से एक सदी से ज्यादा वक्त से चले आ रहे विवाद का अंत हो गया. लोक जनशक्ति पार्टी के नेता ने कहा, “उच्चतम न्यायालय ने एक बेहद स्पष्ट और सर्वसम्मत फैसला किया है. एकमत से दिए गए इस फैसले में सभी पक्षों की भावनाओं का सम्मान किया गया. इससे उस विवाद का हल हो गया जो सदियों से अटका हुआ था.”

पासवान ने कहा कि समूचा राष्ट्र इस ऐतिहासिक फैसले का सम्मान करता है. उच्चतम न्यायालय ने शनिवार को अयोध्या में विवादित स्थल राम जन्मभूमि पर मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करते हुए केन्द्र सरकार को निर्देश दिया कि ‘सुन्नी वक्फ बोर्ड’ को मस्जिद के निर्माण के लिये पांच एकड़ भूमि आबंटित की जाए.

(इनपुट-भाषा)