नागपुर: केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बुधवार को कहा कि देश में भगवान बुद्ध के जीवन से जुड़ी सभी जगहों को जोड़ने से संबंधित परियोजना ‘बौद्ध सर्किट’ का काम 2020 तक पूरा हो जाएगा. उन्होंने कहा कि इस परियोजना में करीब 10,000 करोड़ रुपये की लागत आने की संभावना है. Also Read - महाराष्ट्र में झारखंड के प्रवासी श्रमिकों से भरी बस की ट्रक से भिड़ंत, 4 लोगों की मौत, 22 घायल

Also Read - Coronavirus: महाराष्ट्र में 466 नए मामले, संक्रमितों का कुल आंकड़ा 4,666 पहुंचा

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा कि गौतम बुद्ध में आस्था रखने वाले लोग बड़ी संख्या में पूरी दुनिया से भारत आते हैं. लेकिन अच्छी सड़कों के अभाव में वह बौद्ध तीर्थस्थलों की यात्रा नहीं कर पाते हैं.गडकरी ने कहा कि उनका मंत्रालय उत्तर प्रदेश और बिहार में स्थित विभिन्न स्थानों को आपस में जोड़ने के लिए सड़कें विकसित कर रहा . इस प्रयास के तहत वैशाली, पटना, बोध गया, राजगीर, नालंदा, कहलगांव और विक्रमशिला को आपस में जोड़ा जाएगा. Also Read - 300 साल पुराने रेडलाइट एरिया पहुंचे पुलिस जवानों ने परेशान सेक्‍स वर्कर्स को बांटा खाना

सौगात: सीएम योगी ने की कौशाम्बी को बौद्ध सर्किट से जोड़कर अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटन का दर्जा दिलाने की घोषणा

10,000 करोड़ रुपये की लागत से पूरा होगा बौद्ध सर्किट का काम

उन्होंने कहा बौद्ध सर्किट का काम 2020 तक 10,000 करोड़ रुपये की लागत से पूरा कर लिया जाएगा. मंत्री के अनुसार, बिहार बौद्ध सर्किट में बोध गया, नालंदा, राजगीर, वैशाली, कहलगांव और पटना शामिल हैं. वहीं धर्मयात्रा सर्किट में बोध गया (बिहार), सारनाथ (उत्तर प्रदेश), कुशीनगर (उत्तर प्रदेश) और पिपरहवा (उत्तर प्रदेश) शामिल हैं. विस्तृत धर्मयात्रा में बोध गया (बिहार), विक्रमशिला (बिहार), सारनाथ (उत्तर प्रदेश), कुशीनगर (उत्तर प्रदेश), कपिलवस्तु (उत्तर प्रदेश), संकिसा (उत्तर प्रदेश) और पिपरहवा (उत्तर प्रदेश) शामिल हैं.