नयी दिल्ली: रक्षा बजट में मामूली बढ़ोतरी करते हुए 2020-21 के लिए इसमें 3.37 लाख करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है, जबकि इससे पिछले साल यह 3.18 लाख करोड़ रुपये था. इसके साथ ही उन उम्मीदों को झटका लगा है, जिनमें सेना के तेजी से आधुनिकीकरण के लिए बजट आवंटन में उल्लेखनीय बढ़ोतरी का अनुमान जताया गया था.Also Read - जम्मू-कश्मीर में बड़ा हादसा, खाई में गाड़ी गिरने से सेना के जवान समेत नौ की मौत

सरकार ने बढ़ाया अंतरिक्ष विभाग का बजट, इतने करोड़ रुपये किए गए आवंटित Also Read - एलआईसी के बाद अब आई दो बैंकों के निजीकरण की बारी, कानून में संशोधन के लिए तेज होगी प्रक्रिया

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा शनिवार को लोकसभा में पेश किए गए आम बजट के मुताबिक कुल रक्षा आवंटन में 1.13 लाख करोड़ रुपये पूंजीगत व्यय के लिए दिए गए हैं. इसका इस्तेमाल नए हथियार, वायुयान, युद्धपोत और अन्य सैन्य उपकरण खरीदने के लिए किया जाएगा. Also Read - कैप्टन अभिलाषा बराक ने रच दिया इतिहास, बनीं देश की पहली महिला 'कॉम्बैट एविएटर'; देखें तस्वीरें...

अरविंद केजरीवाल ने बजट साधा निशाना, कहा- दिल्ली BJP की प्राथमिकता में नहीं, आज ये साबित हुआ

राजस्व व्यय के मद में 2.09 लाख करोड़ रुपये खर्च होंगे, जिसमें वेतन पर व्यय और रक्षा प्रतिष्ठानों का रख-रखाव शामिल है. कुल आवटंन में पेंशन भुगतान के लिए अलग रखे गए 1.33 लाख करोड़ रुपये शामिल नहीं हैं. विशेषज्ञों के मुताबिक रक्षा आवंटन जीडीपी का 1.5 प्रतिशत बना हुआ है, और यह 1962 के बाद से सबसे कम है.

Budget 2020: निर्मला सीतारमण ने दिया सबसे लंबा बजट भाषण, ब्लड प्रेशर लो होने पर रुकना पड़ा