Budget 2021: लोकसभा का बजट सत्र 29 जनवरी से 15 फरवरी तक चलेगा. इस बात की पुष्टि लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने की. उन्होंने कहा कि पहले चरण के अंदर 12 बैठक होंगी. वहीं दूसरा चरण 8 मार्च से 8 अप्रैल तक होगा जिसमें 21 बैठक होंगी. लोकसभा स्पीकर ने कहा कि हमारी कोशिश है कि सदन सबके सहयोग से चले.Also Read - लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सांसद नवनीत राणा की गिरफ्तारी का ब्योरा मांगा, कहा- पुलिस कर रही अमानवीय व्यवहार

ओम बिरला ने कहा, ” COVID19 महामारी के बीच, बजट सत्र 29 जनवरी से शुरू होगा. राज्यसभा सुबह 9 से दोपहर 2 बजे तक और लोकसभा शाम 4 बजे से रात 9 बजे तक बैठेगी. इसके अलावा शून्यकाल और प्रश्नकाल आयोजित किया जाएगा. सांसदों से कोरोना का आरटी-पीसीआर टेस्ट कराने के का अनुरोध किया गया है.” उन्होंने कहा कि सांसदों के आवास के निकट भी उनके आरटी-पीसीआर कोविड-19 परीक्षण किए जाने के प्रबंध किए गए हैं. Also Read - PM मोदी की केंद्रीय कैबिनेट के साथ बैठक, अमित शाह- राजनाथ सिंह समेत कई मंत्री हुए शामिल

ओम बिरला ने कहा कि संसद परिसर में 27-28 जनवरी को आरटी-पीसीआर जांच की जाएगी, सांसदों के परिवार, कर्मचारियों की आरटी-पीसीआर जांच के भी प्रबंध किए गए हैं. लोकसभा अध्यक्ष ने बताया कि केंद्र, राज्यों द्वारा निर्धारित की गई टीकाकरण अभियान नीति सांसदों पर भी लागू होगी. संसद सत्र के दौरान पूर्व निर्धारित एक घंटे के प्रश्नकाल की अनुमति रहेगी. Also Read - Punjab के CM पद की शपथ लेने से पहले भगवंत मान का बड़ा फैसला- अनमोल रतन सिद्धू होंगे पंजाब के नए एडवोकेट जनरल

इसके अलावा लोकसभा अध्यक्ष ने बताया कि संसद कैंटीन में फूड सब्सिडी पूरी तरह से हटा दी गई है. उन्होंने कहा कि उत्तर रेलवे के बजाय अब आईटीडीसी संसद की कैंटीनों का संचालन करेगी. बिरला ने इससे जुड़े वित्तीय पहलुओं के बारे में कोई जानकारी नहीं दी. हालांकि सूत्रों ने बताया कि सब्सिडी समाप्त किये जाने से लोकसभा सचिवालय को सालाना 8 करोड़ रूपये की बचत हो सकेगी.

इससे पहले लोकसभा सचिवालय ने यह जानकारी दी थी. सचिवालय ने कहा था कि राजनीतिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीपीए) की सिफारिशों के आधार पर दो हिस्सों में चलने वाला बजट सत्र 8 अप्रैल तक चलेगा. सचिवालय ने कहा था कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 29 जनवरी को पूर्वाह्न 11 बजे संसद के दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा की संयुक्त बैठक को संबोधित करेंगे. केंद्रीय बजट 1 फरवरी को पूर्वाह्न 11 बजे पेश किया जायेगा.

उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस संक्रमण के चलते संसद का शीतकालीन सत्र नहीं बुलाया गया था. सरकार ने कहा था कि कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण इस बार संसद के शीतकालीन सत्र का आयोजन नहीं होगा. इस पर विपक्ष ने आरोप लगाया था कि सरकार किसानों के विरोध प्रदर्शन एवं अन्य मुद्दों पर चर्चा करने से भाग रही है.