नई दिल्ली: प्रचंड चक्रवाती तूफान ‘बुलबुल’ की वजह से ओडिशा सहित पश्चिम बंगाल में तीन लोगों के मारे जाने की जानकारी सामने आई है. इस चक्रवात ने दोनों राज्यों के तटीय जिलों में भारी तबाही मचाई, जिससे पेड़-पौधों के साथ हजारों घर और सैकड़ों फोन टावर क्षतिग्रस्त हो गए हैं. यह जानकारी केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा रविवार को जारी की गई है.

पश्चिम बंगाल और ओडिशा से प्राप्त रिपोर्ट का हवाला देते हुए मंत्रालय ने जानकारी दी कि प्रचंड चक्रवात ‘बुलबुल’ बांग्लादेश की ओर बढ़ चुका है. हालांकि अभी भी उसके प्रभाव से पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना में 80 किलोमीटर की रफ्तार से तेज हवाएं चल रही हैं. तेज हवाओं के कारण पश्चिम बंगाल के बाशीरहाट में एक व्यक्ति पर पेड़ गिरने के कारण उसकी मौत होने की जानकारी सामने आई है.

ओडिशा में दो लोगों की मारे जाने की खबर सामने आई है. इनमें से एक की मौत डूबने से तो दूसरे की मौत दीवार के गिरने के कारण हुई. पश्चिम बंगाल में ‘बुलबुल’ से कुल 7815 घर क्षतिग्रस्त हुए हैं और करीब 870 पेड़ों के गिरने की जानकारी सामने आई है. वहीं मंत्रालय ने बताया कि 950 फोन टावर भी इस तूफान के कारण क्षतिग्रस्त हुए हैं. पश्चिम बंगाल में बिजली और दूरसंचार सेवाओं को पुन: बहाल करने का काम शुरू हो गया है. मंत्रालय ने कहा कि चक्रवात के प्रभाव के कारण ओडिशा के चार जिले गंभीर रूप से प्रभावित हुए हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी लगातार पश्चिम बंगाल की स्थिति पर नजर बनाए रखे हुए हैं. उन्होंने फोन पर राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से भी चर्चा की. पीएम मोदी ने ममता से बात के दौरान केंद्र द्वारा हर संभव मदद करने का भी आश्वासन दिया. आपको बता दें कि बुलबुल चक्रवात के चलते कोलकाता में अगले 12 घंटों के लिए सभी उड़ाने रद्द कर दी गई हैं.