नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने बुराड़ी में रहस्यमय तरीके से एक परिवार के 11 सदस्यों की मौत मामले की तह तक जाने के लिए परिवार की मानसिकता का पता लगाने के वास्ते शवों को मनोवैज्ञानिक पोस्टमॉर्टम कराने का निर्णय लिया है. Also Read - Kisan Andolan LIVE Updates: गृह मंत्री अमित शाह का किसानों को अश्वासन- 3 दिसंबर से पहले बातचीत को तैयार भारत सरकार

Also Read - Kisan Andolan LIVE Updates: दिल्ली की सीमाओं पर बड़ी संख्या में किसान मौजूद, विपक्ष ने कहा- बड़ा ग्राउंड दे सरकार

बुराड़ी केस: डिलिवरी बॉय ने आखिरी बार देखा था परिवार को, होटल से मंगवाई थी 20 रोटियां Also Read - दिल्ली सरकार ने कहा- किसानों को जेल में नहीं डालना चाहिए, उन्हें दिल्ली आने दिया जाए

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी. हालांकि इस प्रकार का पोस्टमॉर्टम करने वाला चिकित्सक कौन होगा अभी इस पर निर्णय नहीं हुआ है. इस प्रकार के पोस्टमॉर्टम में परिवार के जीवित सदस्यों की मानसिकता और मृतक की दिमागी हालत की मैपिंग की जाती है. उन्होंने बताया कि घटनास्थल से बरामद कागजों से ‘बड़ तपस्या’ का अभ्यास करने की बात सामने आई है, जिसमें लोग बरगद का पेड़ और उसकी टहनियां बनने की कोशिश करते हैं.

मृतकों की मानसिकता के बारे में जानने का प्रयास करेंगे विशेषज्ञ

उन्होंने कहा कि विशेषज्ञ मृतकों की मानसिकता के बारे में जानने का प्रयास करेंगे. इन कागजों में लिखा है कि इस प्रकार के अभ्यास से भगवान प्रसन्न होंगे. पुलिस को इस मामले में अब भी अंतिम पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट और फॉरेंसिक रिपोर्ट मिलने का इंतजार है. पुलिस शवों का बिसरा भी फॉरेंसिक जांच के लिए भेजेगा ताकि यह पता चल सके कि कहीं इन्हें जहर तो नहीं दिया गया.