नई दिल्लीः चुनावी सर्वे करने वाली एजेंसी C-Voter ने अप्रैल-मई में होने वाले लोकसभा चुनाव से करीब 4 माह पहले एक ओपिनियन सर्वे (opinion poll) किया है. इस सर्वे के मुताबिक 2019 में एक बार फिर केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार बन सकती है. भाजपा और उसके सहयोगी दलों को लोकसभा की कुल 545 सीटों में से 291 सीटें मिल सकती हैं. हालांकि उत्तर प्रदेश में अगर सपा और बसपा ने गठबंधन कर लिया तो एनडीए को भारी नुकसान होगा और उसकी कुल सीटें घटकर 247 पर आ जाएंगी.Also Read - CM पद की शपथ लेते ही कुर्सी छोड़ने का दबाव, चरणजीत सिंह चन्नी से महिला आयोग ने माँगा इस्तीफा, जानें वजह

Also Read - Maharashtra News: कांग्रेस ने महाराष्ट्र से राज्यसभा सीट के उपचुनाव में रजनी पाटिल को बनाया उम्मीदवार

सर्वे के मुताबिक हाल के विधानसभा चुनावों में जिन राज्यों में पार्टी ने सत्ता गंवाई है वहां लोकसभा चुनाव में वह अच्छा प्रदर्शन कर सकती है. पार्टी छत्तीसगढ़ की कुल 11 में से पांच, राजस्थान की कुल 25 में 19 और मध्य प्रदेश की कुल 29 में से 23 सीटों पर कब्जा जमा सकती है. इसमें कहा गया है कि इस राज्यों के वोटर विधानसभा चुनाव में भाजपा के प्रदेश नेतृत्व को भले ही वोट न दिया हो लेकिन वे अब भी पीएम मोदी पर भरोसा करते हैं. Also Read - फल देने का झांसा देकर बगीचे में ले गए, फिर दो लोगों ने किया नाबालिग लड़की का रेप; सोशल मीडिया पर डाला वीडियो

इसके अलावा एनडीए पूर्वी और पूर्वेत्तर भारत में अच्छा करते हुए दिख रहा है. वह ओडिशा की 21 में से 15, पश्चिम बंगाल की 42 में से 9 और बिहार की 40 में से 35 सीटों पर जीत हासिल कर सकता है. साथ ही वह पूर्वोत्तर की 25 में से 19 सीटों पर अपना परचम लहरा सकता है. हालांकि एनडीए को दक्षिण भारत में भारी नुकसान झेलना पड़ सकता है. वहां की 129 सीटों में से उसे केवल 15 ही मिलती दिख रही है.

अशोक गहलोत कैबिनेटः सीनियर नेताओं को नहीं मिली जगह, क्या CM पर भारी पड़े सचिन पायलट!

सर्वे में तमिलनाडु में कांग्रेस के डीएमके के साथ गठबंधन करने पर शानदार प्रदर्शन करने की उम्मीद है. वहीं आंध्र प्रदेश में टीडीपी अच्छा कर सकती है. कुल मिलाकर दक्षिण भारत यूपीए को 2019 के मुकाबले में टक्कर देने की स्थिति में लाता दिख रहा है.

यूपी में होगा सबसे बड़ा खेल

2019 के चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश में सबसे बड़ा खेल होने वाला है. 80 लोकसभा सीटों वाले इस प्रदेश में अगर सपा और बसपा साथ-साथ चुनाव लड़ते हैं तो एनडीए को भारी नुकसान झेलना पड़ सकता है. इस सर्वे में कहा गया है कि राज्य में अगर चौतरफा मुकाबला यानी सपा, बसपा, कांग्रेस और भाजपा अलग-अलग चुनाव लड़े तो भाजपा 72 सीटों पर जीत सकती है लेकिन अगर सपा-बसपा एक साथ आ जाएं तो वह 28 सीटों पर सिमट जाएगी. दूसरी-तरफ सपा-बसपा गठबंधन 50 सीटें जीत सकता है.

लोकसभा चुनाव 2019: महाराष्‍ट्र में भी बिहार फॉर्मूला अपना सकती है बीजेपी

पश्चिम भारत की बात करें तो गुजरात में भाजपा 26 में से 24 सीटें जीतते दिख रही है. लेकिन महाराष्ट्र की 48 सीटों में से उसे केवल 18 पर जीत नसीब होगी. कुल मिलाकर आज की तारीख में राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा के नेतृत्व में एनडीए, कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूपीए से काफी आगे दिख रहा है. अगामी चुनाव में यूपीए 171 सीटें जीतते दिख रहा है. लेकिन यूपी में गठबंधन की स्थिति में सपा-बपसा एक बड़ी ताकत बनेगी.