नई दिल्ली: पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने गुरुवार को दावा किया कि संशोधित नागरिकता कानून मुस्लिमों को नजरअंदाज करता है और वह इस नए कानून और साथ ही एनआरसी को इस केंद्र शासित प्रदेश में किसी भी हाल में लागू नहीं करेंगे.

कांग्रेस के मुख्यमंत्री ने दावा किया कि सीएए और एनआरसी बुरे इरादों वाला है और भाजपा द्वारा हिंदुत्व के लक्ष्य को प्राप्त करने के लक्ष्य से लाया गया है. नारायणसामी ने कहा कि कांग्रेस के शासन वाले राज्यों ने निर्णय लिया है कि वह सीएए और एनआरसी लागू नहीं करेंगे और मैं भी पुडुचेरी में ऐसा ही करूंगा.

मुख्यमंत्री ने बताया, श्रीलंका में तमिल लोगों के साथ उत्पीड़न होता है. आपने उन्हें क्यों छोड़ दिया? यही बात रोहिंग्या के साथ है.’’
उन्होंने सीएए के बारे में कहा कि इसमें सभी धर्मों को शामिल किया जाना था. इसे किसी खास धर्म के लोगों के लिए वर्गीकृत नहीं किया जा सकता. जो कुछ भी हो, यह पुडुचेरी में लागू नहीं होगा.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 23 दिसंबर को पुडुचेरी की यात्रा पर थे और इस दौरान मुख्यमंत्री ने उनसे यह कहते हुए उपराज्यपाल किरण बेदी को तत्काल राज्य से वापस बुला लेने की मांग की कि बेदी विभिन्न योजनाओं को लागू होने में रोड़े अटका रही हैं.

इस संबंध में पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि उन्हें राष्ट्रपति से इस पर प्रतिक्रिया नहीं मिली है और वह अपने आरोपों पर अब भी बने हैं.