Kailash Vijayvargiya Statement on Poha भारतीय जनता पार्टी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय( Kailash Vijayvargiya) हमेशा ही अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में छाए रहते हैं. एक बार फिर से वे चर्चा में बने हुए हैं. इस बार उन्होंने एक ऐसा बयान दिया है जिसे सुनकर थोड़ा हैरत में पड़ा जा सकता है और आप भी एक बार सोचेंगे कि क्या सच में ऐसा हो सकता है. कैलाश विजयवर्गीय ने गुरुवार को एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि मैंने एक बार खाने के तरीके कुछ बांग्लादेशियों की पहचान की थी. भाजपा नेत के इस बयान के बाद ट्विटर पर #Poha ट्रेंड करने लगा.

दरअसल राष्ट्रीय महासचिव ने कहा कि कुछ दिन पहले मेरे घर पर कुछ लोग काम के लिए लगे थे. जब मैने उनके खाने का तरीका देखा तो मैं समझ गया कि वह बांग्लादेशी हैं. उन्होंने बताया कि वह सभी लोग एक साथ पोहा का रहे थे, जब मैंने सुपरवाइजर से बात की तो मेरा शक कंफर्म हो गया और उसके अगले दिन वे काम पर नहीं आए. भाजपा नेता ने कहा कि जब मैने उनसे बात की तो उन्हें ये तक नहीं मालूम था कि वह पश्चिम बंगाल के किस गांव में रहते हैं.

इतना ही नहीं कैलाश विजयवर्गीय ने यह दावा किया कि एक बांग्लादेशी युवक मेरे इंदौर वाले घर करीब डेढ़ साल तक मेरी रेकी करता रहा. उन्होंने कहा कि जब उसकी गिरफ्तारी हुई तब इस बात का खुलासा हुआ. उन्होंने कहा कि जो मजदूर मेरे घर में काम करने आए थे और फिर चले गए मैंने अभी तक इसकी शिकायत नहीं की. उन्होंने यह भी कहा कि मैं इस बात का जिक्र सिर्फ सतर्क रहने के लिए बता रहा हूं.

नागरिकता कानून पर आयोजित संवाद में उन्होंने कहा कि यह देश में क्या हो रहा सब तरफ आतंक फैला हुआ है. मैं जब घर से बाहर निकलता हूं तो मुझे छह बंदूकधारी लेकर चलना पड़ता है.