नई दिल्ली: नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में नागरिकता संशोधित क़ानून (Citizenship Amendment Act) को लेकर भड़की हिंसा के बाद बवाल जारी है. हिंसा के एक पुलिसकर्मी सहित 7 लोगों की मौत हो चुकी है. 50 से अधिक लोग घायल हैं. आज रात में भी कई जगहों पर हंगामे की खबर है. कई मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए गए हैं. धारा 144 लागू है. वहीं, बताया जा रहा है कि रात में भी सड़कों पर लोगों ने उपद्रव मचाया. कई जगहों पर आग लगाई गई. गोकुलपुरी इलाके के टायर बाजार में भीड़ ने आग लगा दी. हिंसा के दौरान कई घर में जलाए गए हैं. आग पर काबू पाने के लिए 15 दमकल गाड़ियां भेजी गईं. हिंसा से प्रभावित उत्तर पूर्वी दिल्ली के स्कूल आज बंद रहेंगे. Also Read - कोरोनावायरसः पुलिस ने खाली कराया शाहीन बाग, सौ दिन से चल रहा था CAA के खिलाफ प्रोटेस्ट

हेड कांस्टेबल रतनलाल की मौत
नागरिकता क़ानून और एनआरसी को लेकर काफी दिनों से प्रदर्शन चल रहे हैं. शाहीन बाग़ से लेकर कई इलाकों में धरना चल रहे हैं. इसी बीच दिल्ली में एक बार फिर हिंसा हो गई है. पिछले दो दिनों से पूर्वी दिल्ली के हालात बिगड़े हुए हैं. हिंसा के बीच गोकलपुरी के सहायक पुलिस आयुक्त के कार्यालय से जुड़े हेड कांस्टेबल रतन लाल (42) की मौत हो गई. सूत्रों ने बताया कि शाहदरा के पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) अमित शर्मा और एसीपी (गोकलपुरी) अनुज कुमार समेत कम से कम 11 पुलिसकर्मी प्रदर्शनकारियों को काबू करने के दौरान घायल हो गए. सीआरपीएफ के दो कर्मी भी इस दौरान घायल हो गए. Also Read - दिल्‍ली के शाहीन बाग धरनास्थल पर फेंका गया पेट्रोल बम

दुकान, घर, पेट्रोल पम्प जलाया
दो दिन से चल रही हिंसा के दौरान प्रदर्शनकारियों ने मकानों, दुकानों, वाहनों और एक पेट्रोल पम्प में आग लगा दी और पथराव किया. इन इलाकों में हिंसा का यह दूसरा दिन है. यह हिंसा ऐसे समय में हो रही है जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सोमवार शाम को नई दिल्ली पहुंचे. जाफराबाद, मौजपुर, चांद बाग, खुरेजी खास और भजनपुरा में सीएए समर्थक और विरोधी समूहों के बीच हिंसा भड़कने के बाद पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिये आंसू गैस छोड़ी और लाठीचार्ज भी किया. हालात नियंत्रित करने के लिए सुरक्षा बलों ने फ्लैग मार्च किया और निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है.

दिल्ली हिंसा: जाफराबाद, मौजपुर समेत ये मेट्रो स्टेशन रहेंगे बंद, इन जगहों पर भारी ट्रैफिक होने की संभावना

रात में भी जारी रहीं झड़पें
हालांकि मौजपुर और अन्य इलाकों में देर रात छिटपुट झड़पें जारी रहीं. सरकारी सूत्रों ने आशंका जताई कि दिल्ली के कुछ हिस्सों में हिंसा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की जारी यात्रा के मद्देनजर करायी गई प्रतीत होती है. उन्होंने बताया कि दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक पुलिस नियंत्रण कक्ष में हैं और राष्ट्रीय राजधानी में हिंसा के मद्देनजर स्थिति पर करीबी नजर रखे हुए हैं. केन्द्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है और मौके पर पर्याप्त सुरक्षा बल तैनात किये गये है.

सीएए समर्थक और विरोधी भिड़े
हिंसा प्रभावित इलाकों में सीएए समर्थक एवं विरोधी प्रदर्शनकारियों के बीच कई बार पथराव हुआ. सड़कों पर ईंट, पत्थर और कांच के टुकड़े बिखरे हैं. मौजपुर में प्रदर्शनकारियों ने पथराव किया और कम से कम तीन वाहनों में आग लगा दी. बंद दुकानों में भी तोड़-फोड़ की गई. कम से कम एक मकान में आग लगा दी गई. एक प्रदर्शनकारी ने हवा में कई बार गोलियां चलाईं और एक पुलिसकर्मी को उसे रोकते देखा गया. मौजपुर में सीएए समर्थक प्रदर्शनकारियों द्वारा एक व्यक्ति को घेरकर पीटते देखा गया. व्यक्ति के सिर से खून निकल रहा था. कुछ हमलावरों ने भड़काऊ नारेबाजी की. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध और समर्थन के दौरान उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कुछ हिस्सों में हिंसा के मद्देनजर कानून-व्यवस्था बहाल करने का अनुरोध किया है.

आज स्कूल बंद
इस बीच, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट किया कि हिंसा प्रभावित उत्तर पूर्वी दिल्ली में मंगलवार को सभी सरकारी और निजी स्कूल बंद रहेंगे. सिसोदिया ने ट्वीट किया, ‘‘दिल्ली में हिंसा प्रभावित उत्तर पूर्व जिले में कल स्कूलों की गृह परीक्षाएं नहीं होंगी और सभी सरकारी एवं निजी स्कूल बंद रहेंगे. बोर्ड परीक्षाओं के संबंध में मैंने मानव संसाधन विकास मंत्री से बात की है कि इस ज़िले में कल की बोर्ड परीक्षा भी स्थगित कर दी जाए.’’