गाजियाबाद: देश भर में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ अब तक प्रदर्शन जारी है. कई राज्यों में इस प्रदर्शन ने हिंसक रूप भी ले लिया है. वहीं उत्तर प्रदेश में चल रहा उग्र विरोध प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है. पुलिस की जानकारी के अनुसार उत्तरप्रदेश के गाजियाबाद में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हिंसा करने के आरोप में 65 लोगों को गिरफ्तार किया गया है जबकि 350 अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है.

सीएए के खिलाफ हिंसा : योगी आदित्यनाथ ने धर्माचार्यों और प्रबुद्ध वर्ग से की मदद की अपील

पुलिस ने बताया कि प्रदर्शन के दौरान हिंसा और पत्थरबाजी करने में शामिल असमाजिक तत्वों को पकड़ने के लिए विशेष अभियान चलाया गया है. गाजियाबाद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह ने बताया कि 65 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 350 असमाजिक तत्वों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है. उन्होंने बताया कि लोनी के पूर्व विधायक ज़ाकिर अली के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया है. सिंह के मुताबिक शरारती तत्वों की पहचान कर ली गई है और जल्द उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

CAA: यूपी में अब तक 15 मौतें और 705 गिरफ्तारियां, लखनऊ समेत 15 जिलों में सोमवार तक इंटरनेट बंद

बात अगर गाजियाबाद से निकल कर पूरे यूपी की करें तो विभिन्न जिलों में नागरिकता कानून के विरोध में हुए हिंसक प्रदर्शनों में कम से कम 15 लोगों की मौत हो गई, जिनमें आठ साल का बच्चा भी शामिल है. अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि मेरठ जिले से चार लोगों की मौत की खबर है. कानपुर और बिजनौर में दो-दो लोगों की मौत हुई है. वाराणसी में भगदड़ में आठ साल के एक बच्चे की मौत हो गई. संभल और फिरोजाबाद में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है. यूपी के पुलिस महानिरीक्षक (कानून व्यवस्था) प्रवीण कुमार ने बताया कि राज्य में सीएए के विरोध-प्रदर्शन में 705 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. हिंसक विरोध-प्रदर्शन के दौरान 15 लोगों की मौत हुई है, जबकि 264 घायल हुए हैं.