नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है. इस बीच कई जगहों पर पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प होने की खबर भी लगातार सामने आ रही है. वहीं प्रदर्शन कई जगहों पर उग्र रूप ले चुका है. अगर बात उत्तर प्रदेश की करें तो पूरे प्रदेश में धारा 144 लागू कर दिया गया है. लखनऊ में उग्र प्रदर्शनकारियों ने कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया. आपसी झड़प में पुलिस पर पथराव भी किया गया है. दिन भर पूरे देश में आज प्रशासन ने प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी की है. आइए बताते हैं इस प्रदर्शन से जुड़ी दिन भर की 10 अहम बातें.

1- सुबह की शुरुआत लाल किले के पास विरोध प्रदर्शन से हुई. पुलिस की मनाही के बावजूद प्रदर्शनकारी लाल किले के पास पहुंच गए और जमकर प्रदर्शन किया.

2- विरोध प्रदर्शन के हालात को काबू में लाने के लिए दिल्ली मेट्रों की कई स्टेशनों को बंद कर दिया गया.

3- यूपी में हालात को काबू में लाने के लिए धारा 144 लागू किया गया. राजधानी लखनऊ में विरोध प्रदर्शन ने उग्र रूप ले लिया. पुलिस पर प्रदर्शनाकारियों ने पथराव किया. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया व सरकारी संपत्तियों को भी नुकसान पहुंचाया

4- दिल्ली में प्रशासन की तरफ से कहा गया कि कुछ लोग जानबूझ कर हिंसक मैसेज व्हाट्सऐप पर फैला रहे हैं. इस वजह से कई जगहों पर इंटरनेट और फोन कनेक्शन्स को जाम कर दिया गया.

5- लाल किला पर विरोध प्रदर्शन करने पहुंचे स्वराज इंडिया के योगेंद्र यादव को पुलिस ने हिरासत में लिया.

6- जेएनयू छात्र संघ के पूर्व नेता उमर खालिद को भी लाल किले के पास विरोध प्रदर्शन के दौरान हिरासत में ले लिया गया.

7- बेंगलुरू में प्रतिष्ठित इतिहासकार रामचंद्र गुहा को पुलिस ने प्रदर्शन के दौरान हिरासत में लिया.

8- लोकप्रिय फिल्मकार और अभिनेत्री अपर्णा सेन कोलकाता में नागरिकता कानून के खिलाफ सड़क पर उतरीं. उन्होंने कहा कि देशभर में नए नागरिकता कानून सीएए और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर जोरदार विरोध प्रदर्शन हो रहा है और उनकी आवाज को दबाया नहीं जा सकता. कोलकाता में बड़े विरोध मार्च में हिस्सा लेने के दौरान सेन ने प्रतिष्ठित इतिहासकार रामचंद्र गुहा को बेंगलुरू में हिरासत में लेने की निंदा भी की.

9- बिहार में जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने डाक बंगला चौराहा पर विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया. इस दौरान उन्होंने अपने समर्थकों में जोश भरा और इस कानून को संविधान की मूल भावना के खिलाफ बताया. अपने भाषण में कन्हैया ने सरकार पर निशाना साधा.

10- जन अधिकार पार्टी के प्रमुख पप्पू यादव ने बेड़ियां पहनकर विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए.