कोलकाता: भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय सहित पार्टी के वरिष्ठ नेताओं मुकुल रॉय और जय प्रकाश मजूमदार को शुक्रवार को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के समर्थन में यहां आयोजित एक रैली की शुरुआत होते ही एहतियाती हिरासत में ले लिया गया. पुलिस ने कहा कि रैली का आयोजन बिना अनुमति लिए किया जा रहा था लेकिन भाजपा का कहना है कि उन्होंने अधिकारियों को इसकी जानकारी दी थी.

पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने के दौरान विजयवर्गीय ने संवाददाताओं से कहा कि ममता बनर्जी सरकार ने पश्चिम बंगाल में निरंकुश शासन शुरू कर दिया है लेकिन भाजपा को डराया नहीं जा सकता. उन्होंने कहा, “हम सीएए के समर्थन में रैली निकाल रहे थे जिसे पूरे देश से अपार समर्थन मिला है. लेकिन ममता बनर्जी की पुलिस हमें एक शांतिपूर्ण और लोकतांत्रिक तरीके से रैली नहीं निकालने दे रही है.”

विजयवर्गीय ने कहा कि वह हिरासत में लिए जाने का विरोध नहीं करेंगे क्योंकि वह लोकतांत्रिक तरीके से विरोध करने में विश्वास करते हैं. पुलिस सूत्रों ने कहा कि अन्य समर्थकों के साथ तीनों नेताओं को बिना अनुमति जुलूस निकालने के लिए हिरासत में लिया गया है. हालांकि भाजपा सूत्रों ने कहा कि उन्होंने पुलिस को पहले से रैली की सूचना दी थी.