पिछले काफी समय से लटका पटना हवाई अड्डे के विस्तार का मामला अब सुलझ गया है। पटना हवाई अड्डे के विस्तार और विकास के लिए केंद्र सरकार ने बिहार सरकार और भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण को जमीन की अदला- बदली की मंजूरी दे दी है । पटना हवाई अड्डा अपनी वर्तमान क्षमता से तीन गुना ज्यादा यातायात को संभालता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में बिहार सरकार की 11.35 एकड़ जमीन को एएआई को देने की मंजूरी दी गई।

ये भी पढ़ें : पंजाब में रैली के दौरान बोले राजनाथ सिंह, ‘न दें वोट, लेकिन जूते तो न फेंकिये’

एएआई पटना हवाई अड्डे के विस्तार की योजना बना रहा है क्योंकि वर्तमान टर्मिनल भवन का निर्माण प्रति वर्ष पांच लाख यात्रियों की क्षमता को ध्यान में रखकर बनाया गया था जबकि प्रति वर्ष 15 लाख यात्री हवाई अड्डे का उपयोग कर रहे हैं।

पटना हवाई अड्डे पर प्रस्तावित जमीन का उपयोग विस्तार और नए टर्मिनल भवन के निर्माण के लिए किया जाएगा और साथ ही इससे जुड़े अन्य ढांचागत निर्माण किए जाएंगे।

आपको बता दें कि एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के चेयरमैन ने बिहार सरकार से एयरपोर्ट के रनवे विस्तार के लिए मदद मांगी थी। इस बाबत 12 जनवरी को एयरपोर्ट प्रशासन ने मुख्य सचिव को पत्र भेजा था। एयरपोर्ट पर अभी रनवे की लंबाई 2072 मीटर है और इसे लगभग 2600 मीटर तक किए जाने को लेकर जू से जमीन मांगी गई है।