बेंगलुरू: कर्नाटक में एच डी कुमारस्वामी मंत्रिमंडल के अगले सप्ताह होने वाले बहुप्रतीक्षित विस्तार में जदएस के गठबंधन भागीदार कांग्रेस के दावेदारों ने मंत्री पद पाने के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया है. ऐसी खबरें हैं कि राज्य कांग्रेस के नेता सूची को अंतिम रूप देने के लिए कुछ दिनों में दिल्ली जाएंगे. इस बीच मंत्री पद पाने की आकांक्षा रखने वाले कुछ लोगों ने दबाव की रणनीति बनानी शुरू कर दी है.

भद्रावती से विधायक बी के संगमेश के समर्थकों ने बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया के आवास के समक्ष अपने नेता को मंत्री पद दिये जाने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया. उन्होंने सिद्धारमैया एवं अन्य पार्टी नेताओं से संगमेश, जो कि शिवमोगा जिले से पार्टी के एकमात्र विधायक हैं, के नाम पर विचार करने को कहा. इस इलाके (शिवमोगा) को भाजपा के प्रदेश प्रमुख बी एस येदियुरप्पा के प्रभाव वाला क्षेत्र माना जाता है.

पार्टी सूत्रों ने बताया कि कई ऐसे दावेदार हैं जो राज्य पार्टी नेतृत्व पर दबाव बना रहे हैं और अपनी मांग को लेकर उनके जल्द दिल्ली जाने की संभावना है. कांग्रेस एवं जदएस के बीच इस साल मई में हुए चुनाव पूर्व समझौते के बाद गठबंधन सरकार का यह दूसरा मंत्रिमंडल विस्तार है.

पाकिस्तान ने 2018 में 498 बार की गोलीबारी, 2017 में 111 थी ये संख्या, BSF के 12 जवान हुए शहीद

इससे पूर्व छह जून को हुए विस्तार में कुमारस्वामी ने 25 मंत्रियों को शामिल किया था जिससे उनके मंत्रिमंडल की सदस्य संख्या बढ़कर 27 हो गयी थी. मंत्रिमंडल में अभी कांग्रेस के छह तथा जदएस के एक नेता मंत्री बन सकते हैं. दोनों सत्तारूढ़ दलों के बीच हुए समझौते के तहत कांग्रेस के 22 और जदएस के 12 मंत्री होंगे.

यूपी: ‘आयुष्मान योजना’ में बड़ी गड़बड़ी, कैबिनेट मंत्री का नाम लाभार्थियों में हुआ शामिल

मंत्रिमंडल के विस्तार का निर्णय ऐसी अटकलों के बीच आया है कि भाजपा कुछ असंतुष्ट कांग्रेस विधायकों को फुसला रही है. इसके अलावा पार्टी में कथित तौर पर गुटबाजी भी हो रही है.