नई दिल्ली. सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे 7 दिन से अनशन पर हैं. उनके सहयोगी ने दावा किया है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम चलाने वाले बुजुर्ग कार्यकर्ता का वजन पांच किलोग्राम से ज्यादा घट गया है. इस बीच उनके अनशन को लेकर कैबिनेट में रात भर बैठक चली. बताया जा रहा है कि जन आंदोलन की मांगों पर अन्ना और सरकार के बीच 95 फीसदी तक समन्वय हो गया है. Also Read - Amit Shah Tested Corona Positive: कोरोना पॉजिटिव होने से पहले कैबिनेट मीटिंग में शामिल हुए थे अमित शाह, क्या सभी मंत्रियों का होगा टेस्ट?

रिपोर्ट के मुताबिक, नया ड्राफ्ट लेकर पीएमओ के नुमाइंदे गुरुवार को अन्ना से मुलाकात करेंगे. इस दौरान केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी अन्ना से मुलाकात कर सकते हैं. बताया जा रहा है कि इसके बाद अन्ना का आंदोलन टूट सकता है. Also Read - राजस्थान में सियासी संग्राम के बीच हुई गहलोत मंत्रिपरिषद की बैठक, 223 करोड़ रूपए की निवेश परियोजनाओं को मंजूरी

वहीं, अन्ना हजारे के सहयोगी दत्ता अवारी ने कहा कि अनशन की वजह से उनका ब्लड प्रेशर भी गिरा है. इससे पहले बुधवार को बीजेपी के पूर्व सांसद और पार्टी छोड़कर कांग्रेस में जाने वाले नाना पतोले ने भी रामलीला मैदान में हजारे से मुलाकात की. वहीं, केंद्र ने अपने दूत महाराष्ट्र के मंत्री गिरिश महाजन को हजारे के पास भेजा था. उन्होंने सामाजिक कार्यकर्ता को आश्वस्त किया था कि उनकी अधिकतर मांगों पर ध्यान दिया जाएगा. Also Read - अरविंद केजरीवाल के शपथ ग्रहण में शामिल होगा यह नन्हा कार्यकर्ता, AAP ने ट्वीट कर कहा- तैयार रहो जूनियर

बता दें कि हजारे 23 मार्च से अनशन पर हैं. वह केंद्र में लोकपाल और राज्यों में लोकायुक्त को नियुक्त करने तथा किसानों को उनकी उपज का बेहतर मूल्य देने की मांगों को लेकर अनशन कर रहे हैं.