नई दिल्ली: देश में बीते दिनों किसान बिल (Farm Bill) पर खूब राजनीति व किसानों का प्रदर्शन देखने को मिला. इस आंदोलन के मद्देनजर केंद्रीय कृषि मंत्रालय द्वारा एक बैठक बुलाई गई. इस बैठक में किसान तो पहुंच लेकिन केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर नदारद रहें. इसके बाद नाराज किसानों ने मंत्रालय के बाहर ही हंगामा करना शुरू कर दिया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. साथ ही बिल की कॉपियों को वहीं फाड़ डाली. किसानों का कहना है बैठक बेनतीजा रहा है, अब वे अपना आंदोलन जारी रखेंगे.Also Read - Farmers Protest: जंतर मंतर पर 200 किसानों ने शुरू की 'किसान संसद', सरकार ने दिया बातचीत का न्यौता

पंजाब में किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए सरकार ने किसानों के प्रतिनिधिमंडल को दिल्ली बातचीत के लिए बुलाया था. किसानों का आरोप है कि सरकार पंजाब में नेताओं को फोन करके किसानों के खिलाफ भड़काने का काम कर रही है. बता दें कि बीते दिनों संसद भवन में किसान बिल पास किया गया था, जिसके बाद से लगातार विरोध प्रदर्शन देखने को मिले. Also Read - हरियाणा: जींद में भाजपा कार्यालय के बाहर किसानों ने किया जमकर हंगामा, होर्डिंग उखाड़कर फेंके

Also Read - Jharkhand: कृषि मंत्री का बैंकों को निर्देश, किसानों को क्रेडिट कार्ड दिया जाए

किसानों का आरोप है कि सरकार किसान बिल की आड़ में किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) बंद करना चाहती है. सरकार चाहती है कि जो केंद्रीय एजेंसियां किसानों से अनाज खरीदती हैं, उसे भी बंद कर दिया जाए. किसानों ने कहा कि इससे उन्हें यह डर कि ऐसा होने पर वह बंधुआ मजदूर बन जाएंगे.