नई दिल्ली: राफेल सौदे पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलांद के बयान पर प्रतिक्रिया देने के लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली सामने आए. जेटली ने राफेल लड़ाकू विमान सौदा रद्द करने से इनकार करते हुए कहा है कि फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद इस सौदे पर विरोधाभासी बयान दे रहे हैं. जेटली ने रविवार को फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि न भारत और न ही फ्रांस सरकार की दसॉल्ट द्वारा रिलायंस को भागीदार चुनने में कोई भूमिका रही है. राफेल सौदे पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलांद के बयान के बाद भारत में भारी राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया. ओलांद ने कहा था कि राफेल लड़ाकू जेट निर्माता कंपनी दसॉल्ट ने आफसेट भागीदार के रूप में अनिल अंबानी की रिलायंस डिफेंस को इसलिये चुना क्योंकि भारत सरकार ऐसा चाहती थी.

अमित शाह ने किया कंफर्म: पर्रिकर बने रहेंगे गोवा के सीएम, पर मंत्रिमंडल में होगा बदलाव

जेटली ने कहा कि ओलांद और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान में जुगलबंदी लगती है. मुझे हैरानी है कि 30 अगस्त को राहुल गांधी ने ट्वीट किया था कि राफेल सौदे पर फ्रांस में धमाका होने वाला है. उन्हें इस बारे में कैसे पता चला?’ जेटली ने कहा, ‘हालांकि मेरे पास इसका कोई प्रमाण नहीं है. लेकिन संदेह पैदा होता है. निश्चित रूप से कुछ है. एक बयान (ओलांद से) आता है, उसके बाद में उसका खंडन आता है. लेकिन उन्होंने (गांधी) 20 दिन पहले ही यह कह दिया था.’ जेटली ने कहा कि राफेल लड़ाकू विमान सौदा रद्द करने का सवाल नहीं उठता.

केजरीवाल ने अमित शाह को दिया चैलेंज- दिल्ली में काम पर रामलीला मैदान में जनता के सामने करें बहस

यह सौदा देश की रक्षा जरूरत को पूरा करने के लिए किया गया है. जेटली ने कहा, ‘कोई प्रश्न नहीं उठता. यह फौज की आवश्यकता है. ये देश में आना चाहिए और ये आएगा. रक्षा बलों को इसकी जरूरत है.’ उन्होंने कहा कि जेटली ने कहा कि नियंत्रक और महालेखा परीक्षक मूल्य निर्धारण का अध्ययन करेंगे और इस बात पर विचार करेंगे कि एनडीए सरकार का सौदा यूपीए से बेहतर था या नहीं.

वित्तमंत्री के इस बयान के बाद एक बार फिर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पलटवार किया और कहा कि समय आ गया है वित्त मंत्री और प्रधानमंत्री झूठ बोलना बंद करें. इसके साथ ही राहुल ने सच्चाई सामने लाने के लिए संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से जांच पर बल दिया. उन्होंने जेटली पर आरोप लगाया कि जेटली को ‘सच और झूठ को घुमाने’ में महारत हासिल है. राहुल ने ट्वीट किया, ‘ श्री जेटली को सच या झूठ को घुमाने में महारत हासिल है.

पंजाब: जिला परिषद व पंचायत समिति चुनाव में कांग्रेस की भारी जीत

उनका सच झूठा होता है और वह उसके बचाव में उतरते हैं जिसका बचाव करना असंभव होता है.’ उन्होंने एक मीडिया रिपोर्ट को भी टैग किया है जिसमें जिक्र किया गया है कि किस प्रकार पूर्व फ्रांसीसी राष्ट्रपति फांस्वा ओलांद के आरोपों ने राफेल मुद्दे पर मोदी सरकार को प्रभावित किया है.

रांची के सीएम रघुवर दास ने कहा- भ्रष्टाचारियों के लिए मोदी सरकार मुसीबत बनकर आई है

कांग्रेस के शीर्ष नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल राफेल लड़ाकू विमान सौदे में कथित भ्रष्टाचार की स्वतंत्र जांच कराने की मांग को लेकर सोमवार को केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) से मिलेगा. पिछले सप्ताह कांग्रेस ने देश के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (कैग) से मुलाकात की थी. पार्टी ने कैग से सौदे में कथित अनियमितता पर एक रिपोर्ट तैयार करने और उसे संसद में पेश किये जाने का अनुरोध किया था. कांग्रेस के नेताओं ने रविवार को कहा कि पार्टी इसी तरह का अनुरोध करने के साथ ही इस संबंध में भ्रष्टाचार का एक मामला दर्ज करने की मांग करेगी. राफेल मुद्दे पर अपना हमला तेज करते हुए कांग्रेस ने रविवार को आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गोपनीयता की शपथ का ‘उल्लंघन’ किया.