कोलकाता: कलकत्ता उच्च न्यायालय ने करोड़ों रुपये के चिटफंड घोटाले में कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त राजीव कुमार को मंगलवार को अग्रिम जमानत दे दी. उच्च न्यायालय ने कहा कि यह ऐसा मामला नहीं है, जिसमें हिरासत में लेकर पूछताछ की जाए. न्यायमूर्ति एस मुंशी और न्यायमूर्ति एस दासगुप्ता की पीठ ने राजीव कुमार को अग्रिम जमानत दी. उन्होंने कहा कि अगर इस मामले के संबंध में राजीव कुमार को गिरफ्तार किया जाता है तो भी उन्हें 50-50 हजार रुपये के निजी मुचलके पर सक्षम अदालत से जमानत पर रिहा कर दिया जाएगा.

पीठ ने कहा कि मामले की जांच कर रही सीबीआई के साथ राजीव कुमार ने सहयोग किया और यह ऐसा मामला नहीं है, जिसमें याचिकाकर्ता को हिरासत में लेकर पूछताछ की जाए. हालांकि पीठ ने साथ ही राजीव कुमार को सीबीआई द्वारा 48 घंटे पहले नोटिस मिलने पर मामले में जांच अधिकारियों के समक्ष उपलब्ध रहने के निर्देश दिए. कुमार अभी पश्चिम बंगाल अपराध जांच विभाग (सीआईडी) के अतिरिक्त महानिदेशक हैं.

चुनाव से पहले सीएम देवेंद्र फड़णवीस को सुप्रीम कोर्ट का झटका, हलफनामे में गलत जानकारी देने का चलेगा केस

गौरतलब है कि केंद्रीय जांच एजेंसी ने करोड़ों रुपये के सारदा चिटफंड घोटाले में पूछताछ के लिए पेश होने को लेकर राजीव कुमार को कई नोटिस भेजे थे. कुमार हालांकि सीबीआई के समक्ष पेश नहीं हुए और उन्होंने हर बार और अधिक समय मांगा था.

(इनपुट भाषा)