नई दिल्ली: केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसान सड़क पर उतर चुके हैं. ऐसे में किसानों के आंदोलन पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और हरियाणा के मुख्यमंत्री में इन दिनों जुबानी जंग चल रही है. अमरिंदर सिंह ने शनिवार को एक बार फिर खट्टर पर निशाना साधते हुए कहा कि मेरे किसानों के साथ निर्दयता दिखाई जा रही है. मनोहर लाल खट्टर माफी मांगे. मैं उनसे तब तक बात नहीं करूंगा जब तक वे माफी नहीं मांगेंगे.Also Read - BJP सांसद की किरकिरी, किसानों से ताली बजाने को कहा, सुनने को मिला इनकार

अमरिंदर सिंह ने खट्टर पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए कहा कि मनोहर लाल खट्टर ने झूठ बोला कि उन्होंने मुझे फोन करने की कोशिश की और मैंने जवाब नहीं दिया. लेकिन अब मेरे किसानों के साथ जो किया गया है, इसके बाद अगर वे 10 बार भी फोन करेंगे तो भी मैं बात नहीं करूंगा. Also Read - Corona: ग्रुप ए में रखे गए हरियाणा के ये जिले, CM ने कहा- यहां बढ़ रहे कोरोना के मामले, खतरा अधिक

किसानों को दिल्ली जाने से रोके जाने को लेकर कैप्टन ने मनोहर लाल खट्टर पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली सरकार को उनके आने से दिक्कत नहीं है, केंद्र सरकार बातचीत करने को तैयार है. ऐसे में बीच में आने वाले मनोहर लाल खट्टर होते कौन हैं. मेरे किसानों पर वॉटर कैनन, लाठी चार्ज का इस्तेमाल किया गया. इसमें कई किसान घायल हुए हैं. ऐसे में अब खट्टर से बात करने का कोई मतलब नहीं बनता है. Also Read - Rakesh Tikait ने क्यों कहा- खत्म नहीं हुआ है किसानों का आंदोलन? जानें 26 जनवरी का क्या है 'प्लान'