हैदराबाद: देश के दो दक्षिणी राज्यों, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश, के एटीएम नकदी की कमी से जूझ रहे हैं. हालत ऐसी हो गई है कि लोगों की कैश की जरूरतों को पूरा करने के लिए महाराष्ट्र और केरल जैसे पड़ोसी राज्यों से इसकी खेप मंगाई जा रही है.Also Read - एसबीआई से 862 करोड़ रुपये ठगने के आरोप में CBI ने मुंबई की IT इंफ्रा कंपनी पर मारा छापा

Also Read - अमिताभ बच्चन का किरायेदार बना SBI, जुहू में बच्चन परिवार के स्वामित्व वाली कंपनी की एक संपत्ति को पट्टे पर लिया

टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी रिपोर्ट के अनुसार दोनों दक्षिणी राज्यों में पिछले दो महीने से यह समस्या गंभीर बनी हुई है. मजबूरी में बैंक इसके लिए पड़ोसी राजयों पर निर्भर हैं. तेलंगाना के लिए महाराष्ट्र और केरल तथा आंध्र प्रदेश के लिए ओडिशा और तमिलनाडु से नकदी की आपूर्ति की जा रही है. Also Read - SBI SO Recruitment 2021: SBI में बिना परीक्षा के अधिकारी बनने का गोल्डन चांस, जल्द करें आवेदन, 3 लाख मिलेगी सैलरी

इसके अलावा 2000 के नोटों की भी भारी किल्लत है. इसका कारण यह है कि सितंबर, 2017 से ही रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया इसकी आपूर्ति नहीं कर रहा. ग्राहक भी इन नोटों को बैंकों में वापस जमा नहीं कर रहे.

यह भी पढ़ें: 44 साल की मां 16 साल के बेटे के साथ दे रही हैं 10वीं की परीक्षा

हैदराबाद सर्किल में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के चीफ जनरल मैनेजर के मुताबिक जनवरी और फरवरी महीने में एटीएम से नकदी निकासी ज्यादा हुई, लेकिन इस अनुपात में नकदी की आपूर्ति नहीं हुई. आरबीआई की अनुमति के बाद इस कमी को पूरा करने के लिए महाराष्ट्र और तिरुअनंतपुरम से नकदी मंगाई गई. हालांकि, मार्च महीने में अब तक ऐसा नहीं किया गया है. उन्होंने यह भी बताया कि बैंकों की कोशिश होती है कि 94 फीसदी मौकों पर एटीएम में कैश उपलब्ध रहे. लेकिन जनवरी महीने में यह अनुपात कम होकर 70 फीसदी रह गया. फिलहाल यह अनुपात 60 फीसदी के करीब है.