Caste Census In India: बिहार में उठी जातीय जनगणना (Caste Census) की मांग अब दिल्ली पहुंच चुकी है. ये मामला अब पीएम मोदी तक पहुंच चुका है और इस मसले पर एकजुटता दिखाने के उद्देश्य से सोमवार की सुबह 11 बजे बिहार के पक्ष-विपक्ष के विभिन्‍न दलों का 11 सदस्यीय सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Bihar CM Nitish Kumar) के नेतृत्व में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Modi) से मुलाकात की. पीएम मोदी संग बैठक में बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) सहित बिहार में भाजपा के मंत्री भी शामिल थे.Also Read - बिहार: चिराग पासवान और तेजस्वी यादव मिले, कहा- 'दोनों परिवारों में पारिवारिक संबंध'

 नीतीश कुमार ने कहा-पीएम ने सुनी बात, अब उनके फैसले का इंतजार Also Read - Bihar Unlock: बिहार में Lockdown की पाबंदियां खत्म, सीएम नीतीश ने किया बड़ा ऐलान-खोल दिए जाएं धर्मस्थल-सभी स्कूल्स

पीएम मोदी संग बैठक के बाद बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री ने राज्य में जाति जनगणना पर प्रतिनिधिमंडल के सभी सदस्यों की बात सुनी. हमने पीएम से इस पर उचित निर्णय लेने का आग्रह किया. हमने उन्हें बताया कि कैसे जाति जनगणना पर राज्य विधानसभा में दो बार प्रस्ताव पारित किया गया है. Also Read - Bihar CM Nitish Kumar: जातिगत जनगणना को लेकर पीएम मोदी से मिलने पहुंचे सीएम नीतीश, तेजस्वी-मांझी भी हैं साथ

नीतीश कुमार ने आगे कहा कि इस मुद्दे पर बिहार और पूरे देश के लोगों की राय एक जैसी है. हमने उन्‍हें बताया कि किस तरह बिहार विधानसभा ने जातीय जनगणना को लेकर दो बार फरवरी 2018 तथा पुन: फरवरी 2020 में प्रस्‍ताव प‍ारित किया है. हमारी बात सुनने के लिए हम पीएम के शुक्रगुजार हैं.अब उन्हें इस पर निर्णय लेना है.

तेजस्वी ने कहा-जब पेड़-पौधों की गिनती तो जातियों की क्यों नहीं

बिहार में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि  हमारे प्रतिनिधिमंडल ने आज न केवल राज्य (बिहार) में बल्कि पूरे देश में जाति जनगणना के लिए पीएम से मुलाकात की है. राष्‍ट्रहित में हम सभी दलों के लोग एक साथ हैं. जब जानवरों व पेड़-पौधों की गिनती होती है, तब इंसानों की क्‍यों नहीं होनी चाहिए? सरकार के पास जातिगत समाज का आंकड़ा नहीं होगा तो सरकार कल्‍याणकारी योजनाएं कैसे बना सकेगी? हम अब इस पर पीएम के निर्णय का इंतजार कर रहे हैं.