नई दिल्ली: दिल्ली हाई कोर्ट ने मंगलवार को सीबीआई को निर्देश दिया कि वह विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ शुरू की गई आपराधिक कार्यवाही पर यथास्थिति बरकरार रखे. वहीं, इसी मामले में गिरफ्तार किए गए डीएसपी देवेंद्र कुमार को सात दिन की हिरासत में भेजा गया है. अस्थाना ने घूस के आरोप में अपने खिलाफ दायर एफआईआर को चुनौती दी थी.

हाई कोर्ट ने स्पष्ट किया कि मामले में जारी जांच पर किसी तरह का स्थगन नहीं है. न्यायमूर्ति नाजिम वजीरी ने अस्थाना और घूस मामले में गिरफ्तार उपाधीक्षक देवेंद्र कुमार द्वारा दायर अलग याचिकाओं पर जांच एजेंसी, उसके निदेशक आलोक कुमार वर्मा और संयुक्त निदेशक ए के शर्मा से उनकी प्रतिक्रिया मांगी है.

सीबीआई की प्रशासनिक शाखा कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) को भी नोटिस जारी किया है. सिर्फ अस्थाना की तरफ से दायर याचिका पर जांच एजेंसी को यथा स्थिति बनाए रखने का निर्देश दिया गया है. अदालत ने अस्थाना और कुमार से मामले से जुड़े रिकॉर्ड और अपने मोबाइल रिकॉर्ड संरक्षित रखने को कहा है. अदालत ने मामले में अगली सुनवाई 29 अक्टूबर को तय की है.

सुनवाई के दौरान सीबीआई ने कहा कि अस्थाना के खिलाफ गंभीर आरोप हैं और एजेंसी मामले की जांच कर रही है. उसके एफआईआर में और अपराध जोड़ने की उम्मीद है. अस्थाना के वकील और वरिष्ठ अधिवक्ता अमरेंद्र सरन ने कहा कि यह सीबीआई के विशेष निदेशक के खिलाफ आरोपी के बयान पर आधारित एफआईआर के अवैध पंजीकरण का मामला है. वरिष्ठ अधिवक्ता दयान कृष्णन, कुमार के खिलाफ दायर एफआईआर को रद्द कराने के लिये उनकी तरफ से पेश हुए. अस्थाना और कुमार ने अलग-अलग याचिकाएं दायर की थीं.

अमित शाह के कारण CJI रंजन गोगोई को दर्शन के लिए करना पड़ा इंतजार, दो पुलिस अफसर सस्पेंड

अस्थाना ने हाई कोर्ट से यह निर्देश देने की मांग की कि उनके खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई न की जाए. अस्थाना ने कुमार द्वारा हाई कोर्ट में याचिका दायर करने के कुछ घंटों बाद अपनी याचिका दायर की थी. दोनों ही याचिकाओं को मुख्य न्यायाधीश राजेंद्र मेनन के समक्ष पेश किया गया था जिन्होंने इस मामले को सुनवाई के लिये न्यायमूर्ति वजीरी को आवंटित किया.

सीबीआई में सिर-फुटव्‍वल: अस्‍थाना रिश्‍वत मामले में अरेस्‍ट हुए डीएसपी देवेंद्र कुमार

वहीं, अदालत ने बीआई को उसके डीएसपी देवेंद्र कुमार को सात दिन की हिरासत सौंपी है. विशेष सीबीआई न्यायाधीश संतोष स्नेही मान ने कुमार को सीबीआई हिरासत में सौंपा. एजेंसी ने आरोपी अधिकारी को पूछताछ के लिये 10 दिन तक हिरासत में सौंपे जाने का अनुरोध करते हुए कहा था कि उसे आरोपी के कार्यालय और आवास से छापे के दौरान उनकी संलिप्तता की ओर संकेत करने वाले दस्तावेज मिले थे.

रिश्वत मामला: सीबीआई के डीएसपी ने अपनी गिरफ्तारी को हाईकोर्ट में दी चुनौती

सीबीआई ने सोमवार को घूस से जुड़े एक मामले में अपने डीएसपी देवेंद्र कुमार को गिरफ्तार किया था. इस मामले में जांच एजेंसी में दूसरे नंबर के अधिकारी अस्थाना का भी नाम आ रहा है. मीट निर्यातक मोइन कुरैशी से जुड़े मामले में जांच अधिकारी रहे कुमार पर कारोबारी सतीश सना के बयान दर्ज करने में धोखाधड़ी के आरोप हैं. सना ने आरोप लगाया था कि उन्होंने इस मामले में राहत पाने के लिए रिश्वत दी थी.