चंडीगढ़: पत्रकार राम चंदर छत्रपति हत्याकांड मामले में दोषी करार दिए गए डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को आज पंचकुला में एक विशेष अदालत वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए सजा सुनाएगी. राम रहीम के साथ तीन अन्य आरोपियों को भी आज सजा सुनाई जाएगी. हालांकि सजा सुनाए जाने के दौरान चारों दोषियों के वकील अदालत में मौजूद रहेंगे. Also Read - School Reopen in Haryana latest news: हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, राज्य में 10 दिन और बंद रहेंगे स्कूल

Also Read - Kisan Andolan Punjab Haryana Today: बुराड़ी में प्रदर्शन की अनुमति मिलने के बावजूद किसान सिंघु बॉर्डर पर डटे, पुलिस ने हटाए बैरिकेड्स

16 साल पुराने हत्याकांड मामले में हरियाणा सरकार ने कानून व्यवस्था को आधार बनाते हुए सीबीआई अदालत में बुधवार को यह अर्जी दी थी कि सुनवाई के दौरान वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए गुरमीत राम रहीम को पेश किया जाए, जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया. Also Read - पंजाब से हरियाणा, दिल्‍ली तक किसान मार्च की गूंज, पानी की बौछारें, आंसू गैस, लाठी चार्ज...पूरे हंगामें की खास Pics

राज्य सरकार ने एक याचिका दायर कर कहा था कि डेरा प्रमुख की आवाजाही के कारण कानून-व्यवस्था में गड़बड़ी की स्थिति पैदा हो सकती है. ऐसे में राम रहीम और तीन अन्य आरोपियों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये ही सजा सुनाई जाएगी.

गौरतलब है कि साल 2017 में 25 अगस्त को साध्वी यौन शोषण मामले में गुरमीत राम रहीम को दोषी करार दिए जाने के बाद पंचकूला समेत कई जगहों पर काफी आगजनी और तोड़फोड़ हुई थी.

गुरमीत राम रहीम को मिले मौत की सजा, पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के बेटे ने की मांग

विशेष सीबीआई अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह ने हत्या मामले में 11 जनवरी को गुरमीत और तीन अन्य – कुलदीप सिंह, निर्मल सिंह ओर कृष्ण लाल को दोषी ठहराया था.

चारों को आईपीसी की धारा 302 (हत्या) और 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत दोषी ठहराया जा चुका है. निर्मल सिंह और कृष्ण लाल को हथियार कानून के तहत भी दोषी ठहराया जा चुका है.

गुरमीत अपनी दो महिला अनुयायियों से दुष्कर्म करने के जुर्म में रोहतक की सुनरिया जेल में 20 साल की कैद की सजा काट रहा है.

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड में गुरमीत राम रहीम सहित चारों आरोपी दोषी करार

बता दें कि साल 2002 में पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. छत्रपति ने डेरा से जुड़ी कुछ सनसनीखेज खबरें की थीं. पत्रकार के परिवार ने इस मामले में केस दर्ज कराया था, जिसके बाद सीबीआई को यह मामला सुपुर्द कर दिया गया था.

इनपुट भाषा से