नई दिल्ली: सीबीआई ने भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी के भाई निशाल मोदी को स्वदेश वापस लाने के लिये प्रत्यर्पण अनुरोध किया है. अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी. नीरव मोदी 13500 करोड़ रुपए के पीएनबी धोखाधड़ी मामले में आरोपी है. यह अनुरोध शुक्रवार को गृह मंत्रालय को भेजा गया. गृह मंत्रालय विदेश मंत्रालय के जरिये बेल्जियम को यह अनुरोध भेजेगा. ऐसा माना जा रहा है कि निशाल मोदी बेल्जियम में रह रहा है.

अधिकारियों कहा कि बेल्जियन नागरिक निशाल मोदी पहले ही सीबीआई के अनुरोध पर इंटरपोल के रेड कॉर्नर नोटिस का सामना कर रहा है. उन्होंने बताया कि भारत का बेल्जियम के साथ प्रत्यर्पण संधि है. यह आरोप है कि उसने फर्जी भागीदार बनाए और कोष के लाभार्थियों ने पंजाब नेशनल बैंक से धन का गबन कर लिया.

जानिए कौन है अरबों रुपए के पीएनबी घोटाले का मुख्‍य आरोपी नीरव मोदी

बता दें कि इंटरपोल ने अब तक इस तरह के नोटिस नीरव मोदी, उसके भाई नीशाल, बहन पुरवी, उसके अधिकारी सुभाष परब और मिहिर आर भंसाली के खिलाफ जारी किए हैं. किसी भगोड़े के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी हो जाने के बाद इंटरपोल अपने 192 सदस्य देशों से उस व्यक्ति को अपनी सरजमीं में पाए जाने पर हिरासत में लेने को कहता है. इसके बाद प्रत्यर्पण या उसकी स्वदेश वापसी की कार्यवाही शुरू की जा सकती है.

पीएनबी घोटाला नीरव मोदी के खिलाफ इंटरपोल ने रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया 

वांछित के खिलाफ एक बार आरसीएन जारी होने के बाद इंटरपोल अपने 192 सदस्य देशों को उनके देश में वांछित व्यक्ति के नजर आने पर गिरफ्तार करने या हिरासत में लेने को
कहता है ताकि प्रत्यर्पण या वापस भेजे जाने की प्रक्रिया शुरू की जा सके.

PNB घोटाला: सीबीआई ने कहा, नीरव मोदी के ‘कारनामे’ की बैंक की पूर्व एमडी को थी जानकारी 

मामले से संबंधित ये जानें
– सीबीआई के साथ जांच कर रही केंद्रीय एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय ने पूर्वी मोदी पर पीएनबी घोटाले में धनशोधन के मामले में बड़ी भूमिका होने का आरोप लगाया है
– एजेंसियों ने कम से पूर्वी मोदी पर कम 13.3 करोड़ डॉलर (950 करोड़ रुपए से ज्यादा) के घोटाले में ‘लाभार्थी’होने का आरोप लगाया है.
– जांच रिपोर्ट में कहा कि वह कई छद्म या निवेश कंपनियों की मालिक / निदेशक भी हैं
– इसे यूएई, ब्रिटिश वर्जिन आइसलैंड्स और सिंगापुर में स्थित कंपनियों में निवेश कर काले धन को सफेद करने के मकसद से बनाया गया.
– प्रवर्तन निदेशालय मामले जांच को आगे बढ़ाने के लिए उनको पूछताछ में शामिल करना चाहता है और उनके खिलाफ वैश्विक वारंट की मांग की गई थी
– उन्होंने इस संदर्भ में जारी समन का पालन नहीं किया.
– एजेंसी ने मई में मुंबई की एक अदालत के सामने पहले आरोपपत्र में आरोपी के तौर पर पूर्वी का नाम शामिल किया
– जांच एजेसी ने पूर्वी पर मुंबई में पंजाब नेशनल बैंक की ब्रेडी हाउस शाखा में धनशोधन का आरोप लगाया.
-प्रवर्तन निदेशालय ने आरोप लगाया था कि कोष के हेर-फेर के लिए विदेशी कंपनियां बनाई गई
– इसमें कई सारी जाली और छद्म कंपनियां थीं
– ईडी ने आरोप में कहा कि धनशोधन से जुड़े मोंटेक्रिस्टो ट्रस्ट, इताका ट्रस्ट, न्यूजीलैंड ट्रस्ट जैसे ट्रस्ट को पूर्वी मोदी से जुड़ा हुआ पाया गया
– ईडी की जांच में पाया गया कि बारबडोस, मॉरिशस, स्विट्जरलैंड, सिंगापुर, ब्रिटेन और हांगकांग जैसे विदेशी क्षेत्र में उनके नाम से, उनकी कपंनियों के नाम से बैंक खाता खोला गया
– ईडी ने दावा किया था कि बाद में इन कंपनियों से उनका नाम हटा दिया गया और छ्द्म निदेशक का नाम शामिल किया
– पूर्वी ने धनशोधन के अपराध में सक्रियता से भागीदारी की
– इंटरपोल के नोटिस के मुताबिक पूर्वी अंग्रेजी, गुजराती और हिंदी बोलती है और बेल्जियम की नागरिक है
– धनशोधन के आरोपों पर नीरव मोदी के अमेरिकी कारोबार को देखने वाले एक शीर्ष कार्यकारी अधिकारी मिहिर आर भंसाली के खिलाफ इंटरपोल का नोटिस जारी किया गया था.
– ईडी और सीबीआई द्वारा संयुक्त जांच के तहत कुछ समय पहले नीरव मोदी के खिलाफ भी इसी तरह का नोटिस जारी किया गया था

बैंक फ्रॉड के आरोपी नीरव मोदी के पास हैं 6 पासपोर्ट, दर्ज हो सकता है एक और केस