नई दिल्ली: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) उत्तर प्रदेश की समाजवादी सरकार के कार्यकाल के दौरान हुए अवैध खनन घोटाले के सिलसिले में यूपी और दिल्ली में 22 ठिकानों पर छापेमारी कर रही है. इस कार्रवाई में उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति के तीन परिसर शामिल हैं. यह जानकारी जांच एजेंसी के अधिकारियों ने बुधवार को दी. पूर्व मंत्री के अमेठी में स्‍थित निवास पर भी सीबीआई के छापे की कार्रवाई चल रही है.

VIDEO: प्‍लेन का टायर फटने के बाद जयपुर में इमरजेंसी लैंडिंग, बाल-बाल बचे 189 यात्री

परिवार के सदस्यों से भी पूछताछ
सीबीआई के अफसरों ने बताया कि अखिलेश यादव नीत तत्कालीन समाजवादी पार्टी सरकार में प्रजापति के पास खनन विभाग की जिम्मेदारी थी. उन्होंने बताया कि मामला राज्य में विभिन्न जिलों में खनन लीज आवंटन में नियमों में उल्लंघन से जुड़ा है. सीबीआई ने बुधवार को समाजवादी पार्टी के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति के अमेठी स्थित आवास और कार्यालय में छापे मारे. सीबीआई टीम सुबह पूर्व मंत्री के घर पहुंची और तलाशी शुरू की. टीम बेहिसाब दौलत से जुड़े मामलों पर उनके परिवार के सदस्यों से भी पूछताछ कर रही है.

प्रजापति के भी तीन ठिकानों पर छापे
सीबीआई की रेड यूपी और दिल्‍ली के 22 ठिकानों पर जारी है. अवैध खनन के केस में सीबीआई के छापे उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति के भी तीन ठिकानों पर जारी हैं. पूर्व मंत्री के अमेठी में स्‍थित निवास पर भी सीबीआई के छापे की कार्रवाई चल रही है.

गैंगरेप मामले में जेल में बंद है पूर्व मंत्री
गायत्री प्रजापति एक महिला के साथ गैंगरेप के मामले में मार्च 2017 से जेल में बंद है और जब वह खनन मंत्री थे उस दौरान राज्य में अवैध खनन करवाने के भी आरोपी हैं. हाईकोर्ट प्रजापति की जमानत अर्जी को दो बार खारिज कर चुका है. जनवरी 2017 में, एक महिला ने आरोप लगाया था कि प्रजापति (तत्कालीन मंत्री) ने उसे और उसकी बेटी को खनन का ठेका देने के बहाने अपने आवास पर बुलाया था और फिर उन्होंने और उनके लोगों ने दोनों के साथ गैंगरेप किया.