शिलांग: कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार और तृणमूल कांग्रेस के पूर्व सांसद कुणाल घोष से सारदा चिटफंड घोटाला मामले में शिलांग सीबीआई कार्यालय में पूछताछ चल रही है. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के मुताबिक कुमार से रविवार को दूसरे दिन भी पूछताछ जारी रही. अधिकारियों ने बताया कि कोलकाता पुलिस प्रमुख से शनिवार को सीबीआई के तीन वरिष्ठ अधिकारियों ने मामले में महत्वपूर्ण साक्ष्यों से छेड़छाड़ में उनकी भूमिका को लेकर करीब 9 घंटे तक पूछताछ की.

मैंने ‘चौकीदार’ बन आंध्र के सीएम की नींद उड़ा दी, इसलिए अपशब्द बोले जा रहे हैं: नरेंद्र मोदी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तरफ से सारदा घोटाले की जांच के लिए गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) का नेतृत्व कुमार ने किया था. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी थी. सीबीआई कार्यालय में प्रवेश करने से पहले उन्होंने मीडियाकर्मियों से कहा, ”मुझे कुछ नहीं कहना है. मुझे इस कार्यालय में सुनवाई में हिस्सा लेने के लिए कहा गया है. मैं जांच एजेंसी से हमेशा सहयोग करता रहा हूं. इसलिए मैं इसमें शामिल होने आया हूं.”

‘मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार के ‘सुपर चीफ मिनिस्टर’ हैं दिग्विजय, अपना CM तलाश रहे लोग’

तृणमूल कांग्रेस के पूर्व सांसद को सारदा पोंजी घोटाले में 2013 में गिरफ्तार किया गया था और 2016 से वह जमानत पर बाहर हैं. सीबीआई कुमार से उनका आमना-सामना करा सकती है. घोष ने भाजपा नेता मुकुल रॉय और 12 अन्य को सारदा चिटफंड घोटाले में संलिप्त बताया था. रॉय कभी बनर्जी का दाहिना हाथ होते थे. सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कुमार को निर्देश दिया था कि सीबीआई के समक्ष पेश हों और मामलों की जांच में सहयोग करें.