Also Read - जेल से छूटने के बाद ड्रग्स केस की आरोपी रिया चक्रवर्ती बिग बॉस 14 में करेंगी एंट्री? लेकिन...

भुवनेश्वर, 30 नवंबर | केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने करोड़ों रुपये के चिटफंड घोटाले के सिलसिले में गिरफ्तार एक व्यक्ति से संबंध को लेकर ओडिशा के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी से रविवार को पूछताछ की। सीबीआई ने ओडिशा के उत्तर-मध्य क्षेत्र के उप महानिरीक्षक (डीआईजी) राजेश कुमार से तीन घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की। Also Read - टीआरपी घोटाला! सीबीआई ने अपने हाथों में ली जांच, दर्ज की पहली FIR

सीबीआई के सूत्रों ने कहा कि भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारी से शुभंकर नायक के साथ उनके संबंध के बारे में पूछताछ की गई। माना जा रहा है कि नायक के शीर्ष प्रशासनिक अधिकारियों से नजदीकी संबंध रहे हैं और उन्होंने चिटफंड कंपनी सीशोर ग्रुप की ओर से दलाली भी की। पूछताछ के बाद राजेश कुमार ने संवाददाताओं से कहा, “मुझे सीबीआई से जो कुछ कहना था, मैंने उन्हें वह बता दिया है।” Also Read - Hathras case Latest Updates: कहां तक पहुंची हाथरस मामले की सीबीआई जांच? अब आरोपियों की बारी

वह पहले आईपीएस अधिकारी हैं, जिनसे घोटाले के संबंध में पूछताछ की गई है। इससे पहले भी जांच एजेंसी ने कई राजनेताओं तथा अन्य पुलिस कर्मियों से पूछताछ की। राजेश कुमार उत्तर-मध्य क्षेत्र में अपराध शाखा में आर्थिक अपराध इकाई के डीआईजी थे। वह सीशोर ग्रुप के साथ ही चिट फंड घोटाले की जांच की निगरानी भी कर रहे थे।

सीबीआई सूत्रों का कहना है कि जांच एजेंसी को नायक के घर से जब्त की गई डायरी से घोटाले में राजेश कुमार की कथित संलिप्ततता को लेकर सुराग मिले थे। सीबीआई को जब्त की गई डायरियों से इस मामले में कई प्रशासनिक अधिकारियों के शामिल होने के बारे में भी जानकारी मिली। सीशोर ग्रुप पर लोगों को 1,500 करोड़ रुपये की चपत लगाने का आरोप है।