नई दिल्‍ली: केंद्रीय जांच ब्‍यूरो ने बिहार के औरंगाबाद जिले के डीएम कंवल तनुज के खिलाफ 2.7 करोड़ रुपए की रिश्‍वत मामले को लेकर आवास समेत उनके कुछ अन्‍य ठिकानों पर शुक्रवार को छापा मारा. इस कार्रवाई में औरंगाबाद के छह ठिकानों के अलावा, लखनऊ और नोएडा में भी छापे मारे गए. डीएम तनुज पर आरोप है कि उन्‍होंने एनटीपीसी की भारतीय रेल बिजली कंपनी के पॉवर प्‍लांट के लिए जमीन अधिग्रहण करने में अनियमितता की और गलत तरीके से 2.7 करोड़ रुपए से अधिक का फायदा हासिल किया. वहीं, सीबीआई ने मामले के सह आरोपी बीआरबीसीएल के सीईओ सी शिव कुमार के यहां पर भी छापा मारा है.

एफआईआर दर्ज होते ही मारा छापा
सीबीआई ने बिहार में औरंगाबाद के जिलाधिकारी कंवल तनुज और अन्य के खिलाफ शुक्रवार को भ्रष्टाचार का केस दर्ज करते ही छापा मारा. जांच एजेंसी ने मामले में डीएम तनुज, बीआरबीसीएल के सीईओ कुमार समेत अन्‍य लोगों पर धोखाधड़ी और कूटरचित दस्‍तावेज तैयार करने का मामला दर्ज किया है.

ये है मामला
भारतीय रेल बिजली कंपनी लिमिटेड (बीआरबीसीएल) के पॉवर प्‍लांट के लिए औरंगाबाद के नबी नगर इलाके में जमीन अधिग्रहण किया गया था. बीआरबीसीएल एनटीपीसी की अनुषांगिक कंपनी है. इस 7 एकड़ जमीन के अधिग्रहण की प्रक्रिया में गड़बड़ी की गई. आरोप हैं कि बीआरबीसीएल के सीईओ सी शिव कुमार, डीएम तनुज और कंपनी और जिला प्रशासन के अधिकारियों और गोपाल प्रसाद सिंह नाम के व्‍यक्‍त‍ि के साथ मिलकर इस जमीन के फर्जी कागजात तैयार किए. इन दस्‍तावेज में सिंह को मालिक दिखाया गया और उसके नाम पर जमीन का मुआवजा आवंटित किया गया. दर्ज एफआईआर के मुताबिक, बिहार कैडर के आईएएस तनुज ने फर्जी कागजात तैयार कर 2 करोड़ रुपए से ज्‍यादा सिंह के जरिए हासिल किए. अब सिंह की मौत हो चुकी है. (इनपुट एजेंसी)