नयी दिल्ली: अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर सौदे के कथित बिचौलिये क्रिस्टियन मिशेल का रक्तचाप केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के लिए चिंता का सबब बना हुआ है. सीबीआई मिशेल को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ कर रही है. हालांकि सीबीआई उनके स्वास्थ्य पर निरंतर नजर रख रही है ताकि वह पूछताछ के दौरान पूरी तरह स्वस्थ्य रहें. सूत्रों ने कहा कि स्वास्थ्य को लेकर कोई गंभीर स्थिति नहीं है, लेकिन मेडिकल टीम ऐहतियाती रूप से मिशेल (57) के जरूरी स्वास्थ्य मानकों की निगरानी कर रही है. उन्होंने कहा कि सीबीआई उनकी हिरासत 10 दिसंबर से आगे बढाने का अनुरोध कर सकती है.

मिशेल को चार दिसंबर को यूएई सरकार से मंजूरी मिलने के बाद दुबई से प्रत्यर्पित करके लाया गया है. सीबीआई ने उनके खिलाफ पिछले साल सितंबर में आरोपपत्र दायर किया था. उन्हें एक विशेष अदालत ने 10 दिसंबर तक सीबीआई की हिरासत में भेजा है. मिशेल इस मामले के तीन कथित बिचौलियों में शामिल है.

अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदा: क्रिश्चियन मिशेल की कोर्ट में पेशी, बढ़ाई गई सुरक्षा

षडयंत्र रचने का आरोप
आरोप है कि मिशेल ने सह-आरोपियों के साथ मिलकर आपराधिक षडयंत्र रचा. सह आरोपी में तत्कालीन वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी और उनके परिवार के सदस्य शामिल हैं. षड्यंत्र के तहत लोक सेवकों ने वीवीआईपी हेलीकॉप्टर की उड़ान भरने की ऊंचाई 6000 मीटर से घटाकर 4500 मीटर कर अपने सरकारी पद का दुरुपयोग किया. भारत सरकार ने आठ फरवरी 2010 को रक्षा मंत्रालय के जरिए ब्रिटेन की अगस्ता वेस्टलैंड इंटरनेशनल लि़ को लगभग 55.62 करोड़ यूरो का ठेका दिया था.

साल 1980 से कर रहा था काम
प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि मिशेल अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर्स का ‘‘ऐतिहासिक परामर्शदाता’’ बताया जाता है जिसे हेलीकॉप्टर, सैन्य अड्डों और पायलटों की तकनीकी संचालनात्मक जानकारी थी. मिशेल 1980 के दशक से ही कंपनी के साथ काम कर रहा था और इससे पहले उसके पिता भी भारतीय क्षेत्र के लिए कंपनी के परामर्शदाता रह चुके थे. एजेंसी ने बताया कि वह कथित तौर पर बार-बार भारत आता रहता था और भारतीय वायुसेना तथा रक्षा मंत्रालय में सेवानिवृत्त तथा मौजूदा अधिकारियों समेत विभिन्न स्तरों पर सूत्रों के एक बड़े नेटवर्क के जरिए रक्षा खरीद के लिए बिचौलिए के तौर पर काम कर रहा था.