नई दिल्ली. केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने सोमवार को उच्चतम न्यायालय में आरोप लगाया कि शारदा चिटफंड घोटाले के केस के सिलसिले में उसे कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के खिलाफ ‘‘ठोस सामग्री’’ मिली है, लेकिन वह जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं और समन की अनदेखी कर रहे हैं. रविवार की शाम कोलकाता में पश्चिम बंगाल पुलिस द्वारा अपने अधिकारियों को हिरासत में ले लिए जाने की घटना का ब्योरा देते हुए सीबीआई ने कहा कि वह कुमार के लिए यह आदेश मांग रही है कि वह तुरंत आत्मसमर्पण करें और खुद को घोटाले की जांच के लिए उपलब्ध कराएं.

सीबीआई ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राज्य के डीजीपी, अतिरिक्त पुलिस आयुक्त जैसे आला अधिकारियों के साथ कोलकाता में रविवार की रात करीब 10 बजे से बैठी हैं और वर्दीधारी कर्मियों का ऐसा बर्ताव ‘‘कोलकाता एवं पश्चिम बंगाल में कायम हो चुकी पूरी अराजकता’’ की तरफ इशारा करता है. जांच एजेंसी ने कुमार के आवास पर पहुंचने के अपने कदम को सही ठहराते हुए कहा कि बगैर वॉरंट के गिरफ्तार करने के लिए उसके पास ठोस सामग्री है और पुलिस आयुक्त देश के कानून का पालन करने के लिए बाध्य हैं.

कौन हैं ये पुलिस कमिश्नर, जिनके लिए रात में धरने पर बैठीं ममता बनर्जी, हो रहा रेल रोको प्रोटेस्ट

सीबीआई ने कहा कि रविवार को हुई ‘‘अभूतपूर्व घटनाओं’’ के मद्देनजर उसने शीर्ष अदालत का रुख किया है. आपको बता दें कि बीते रविवार की शाम CBI द्वारा पुलिस कमिश्नर से पूछताछ की कोशिश और हिरासत में लिए जाने के बाद शुरू हुआ बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है. पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से पूछताछ करने पहुंची सीबीआई अधिकारियों को पश्चिम बंगाल की पुलिस द्वारा हिरासत में ले लिया गया था. इसके बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पुलिस कमिश्नर के साथ बातचीत करने पहुंचीं. इसके बाद सीएम ममता बनर्जी धरने पर बैठ गईं. बीजेपी व केंद्र सरकार के खिलाफ तानाशाही का आरोप लगाते हुए वह सोमवार रात तक धरने पर बैठी हैं. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार का अत्याचार बहुत बर्दाश्त किया, अब ऐसा नहीं होगा.

अपनी जान दे दूंगी लेकिन समझौता नहीं करूंगी, मैं गुस्से में हूं: ममता बनर्जी

सोमवार को ममता बनर्जी ने कहा कि वह अपने धरने से पीछे नहीं हटेंगी. बनर्जी ने भाजपा के खिलाफ अपना आक्रोश जाहिर करते हुए कहा कि टीएमसी कार्यकर्ताओं को परेशान किया गया, वह तब सड़कों पर नहीं आईं. लेकिन अभी वह गुस्से में हैं. उन्होंने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और पीएम मोदी पर दुर्भावनापूर्ण तरीके से परेशान करने का आरोप लगाया. ममता बनर्जी ने कहा कि वह देश के संविधान को बचाने के लिए धरने पर बैठी हैं.

(इनपुट – एजेंसी)