नई दिल्ली. नोएडा में 9वीं कक्षा की छात्रा ने कथित तौर पर टीचर की प्रताड़ना से डिप्रेशन में आकर घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. 16 साल की छात्रा वह पूर्वी दिल्ली के मयूर विहार-1 में एक नामी पब्लिक स्कूल में पढ़ती थी. इस मामले में छात्रा के पिता ने स्कूल पर आरोप लगाया है. गुरुवार को सीबीएसई ने भी मामले को संज्ञान में लेते हुए स्कूल से रिपोर्ट मांगी है.

टीचर्स ने जानबूझकर किया था छात्रा को फेल
बच्ची के पिता ने कहा, मेरी बेटी ने मुझे बताया था कि एसएसटी टीचर गलत तरीके टच करते हैं. चूंकि मैं भी शिक्षक हूं इसलिए मैंने उससे कहा, मुझे पता है वे ऐसा नहीं कर सकते. गलती से ऐसा हो गया होगा, लेकिन उसने कहा, मैं उनसे डरी हुई हूं. कोई बात नहीं लेकिन मैं कितना अच्छा भी लिखती हूं वे मुझे फेल कर देते हैं. आखिरकार उसने मेरी बेटी को एसएसटी में फेल कर दिया.

छात्रा की मां ने कहा, ‘मेरी बेटी को प्रताड़ित किया जा रहा था, पैरंट्स-टीचर मीटिंग (पीटीएम) में मुझे भी रुलाया था. उसे क्लास में प्रताड़ित किया जाता था. मेरी बेटी को म्यूजिक-डांस में अधिक दिलचस्पी थी. एसएसटी और विज्ञान की परीक्षा से पहले ही शिक्षकों ने उसे फेल करने की धमकी दी थी.

अस्पताल पहुंचने से पहले ही हो गई थी मौत
वहीं, इस मामले पर कैलाश अस्पताल के डॉक्टर्स का कहना है कि छात्रा को जब अस्पताल में भर्ती कराया गया, तब उसकी पल्स और बीपी रिकॉर्ड किए थे. डॉक्टर्स का कहना है कि पल्स अस्पताल में लाने से पहले ही थम चुकी थी. डॉक्टर्स ने उसे बचाने के लिए दवाई और कई सारी कोशिशें की, लेकिन वह नाकाम रहे.

पोस्को एक्ट के तहत दर्ज हुआ मामला
छात्रा के साथ छेड़छाड़ करने के आरोप में पुलिस ने दोनों टीचर्स के खिलाफ पोस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है. पुलिस ने देर रात 1 बजे दो स्कूल टीचर राजीव सहगल व नीरज आनंद के अलावा प्रिंसिपल के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने व जान से मारने की धमकी देने की धारा के तहत मामला दर्ज किया है.