नई दिल्लीः कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमले का कोई भी मौक नहीं छोड़ते हैं. मंच कोई भी हो मौका मिलते ही राहुल गांधी अपने अंदाज में पीएम की आलोचना शुरू कर देते हैं. ताजा मामला सीबीएसई पेपर लीक है. पेपर लीक होने की वजह से सीबीएसई ने 12वीं के इकोनॉमिक्‍स और 10वीं के मैथ्स के पेपर फिर से कराने का फैसला किया है. मामला सामने आने के बाद राहुल गांधी को एक बार फिर सरकार की और प्रधानमंत्री की आलोचना का मौका मिल गया है.Also Read - सिद्धू का नया पैंतरा-पहले इस्तीफा, फिर लिया वापस, अब सोनिया गांधी को लिखा खत, मिलना चाहता हूं

Also Read - UP: PM मोदी 25 अक्टूबर को सिद्धार्थनगर से 7 मेडिकल कॉलेजों का उद्घाटन करेंगे, CM योगी ने दी ये जानकारी

राहुल गांधी ने ट्वीट किया Also Read - फिर से कांग्रेस अध्यक्ष बन सकते हैं राहुल गांधी, CWC की बैठक में बोले- नेताओं ने दबाव बनाया तो विचार करूंगा

कितने लीक? डेटा लीक ! आधार लीक ! SSC Exam लीक ! Election Date लीक ! CBSE पेपर्स लीक ! हर चीज में लीक है, चौकीदार वीक है. गौरतलब है कि इस समय फेसबुक के डाटा लीक से लेकर सीबीएसई के पेपर लीक की चर्चा जोरों पर है और तो और कर्नाटक में चुनाव आयोग की घोषणा से पहले ही बीजेपी के आईटी सेल के हेड अमित मालवीय ने मई में होने जा रहे कर्नाटक चुनाव इलेक्शन की डेट ट्वीट कर दी.

यह भी पढ़ेंः CBSE paper leak: मैथ्स की फोबिया से मुक्त नहीं हुए बच्चे, मस्ती की प्लानिंग हो गई चौपट

पीएम ने जताई थी नाराजगी

सीबीएसई के 12वीं के इकोनॉमिक्स और 10वीं के मैथ्स के पेपर लीक होने की घटना पर पीएम मोदी ने सख्त नाराजगी जताई थी. पीएम मोदी ने इस मामले में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से बात कर नाराजगी जताई थी. पीएम मोदी ने जावड़ेकर को इस मामले में दोषियों पर सख्त एक्शन लेने को कहा है. वहीं दिल्ली पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. पुलिस का कहना है कि ट्यूशन टीचर ने पेपर लीक किए थे.

यह भी पढ़ेंः 44 साल की मां 16 साल के बेटे के साथ दे रही हैं 10वीं की परीक्षा

प्रकाश जावड़ेकर ने क्या कहा था

हालांकि 12वीं के इकोनॉमिक्स और 10वीं के मैथ्स का पेपर लीक होने पर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि पेपर का कुछ हिस्सा व्हॉट्सऐप पर लीक हो गया था और हमने इसके खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दर्ज करवा दी है. जांच जारी है और जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. हमने तय किया है कि अब पेपर बांटते समय भी पहले से ज्यादा सावधानी बरती जाएगी ताकि इस तरह की समस्या फिर न हो” जावड़ेकर ने कहा है कि छात्रों को घबराने की जरुरत नहीं है और किसी भी छात्र के साथ अन्याय नहीं होगा.