नई दिल्लीःसीबीएसई ने 10वीं के मैथ्स का पेपर फिर से कराने का फैसला वापस ले लिया है. इसका मतलब यह है कि सीबीएसई के 10वीं के छात्रों को री-एग्जाम देने की जरूरत नहीं पड़ेगी. यहां तक कि दिल्ली-एनसीआर और हरियाणा में भी छात्रों को दोबारा परीक्षा नहीं देनी होगी. पहले ऐसी रिपोर्ट आई थी कि सरकार कथित पेपर लीक के कारण केवल दिल्ली-एनसीआर और हरियाणा में दोबारा परीक्षा कराने पर विचार कर रही है. बोर्ड के फैसले से 17 लाख छात्रों को फायदा होगा.Also Read - CBSE Board Exam Date Sheet: इस दिन जारी होगी सीबीएसई बोर्ड परीक्षा की डेट शीट, ऑनलाइन परीक्षा नहीं दे सकेंगे छात्र

सरकार का कहना है कि पेपर लीक होने के बाद परीक्षा पर इसके असर का व्यापक स्तर पर आंकलन किया गया. आंकलन में यह पाया गया कि परीक्षा पर पेपर लीक का असर नहीं पड़ा है.ऐसे में दोबारा पेपर कराने की कोई जरूरत नहीं है. मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सचिव अनिल स्वरूप ने भी कहा है कि पेपर लीक का 10वीं की मैथ्स परीक्षा पर कोई असर नहीं पड़ा है. ऐसे में छात्रों के हित को ध्यान में रखते हुए सीबीएसई और मंत्रालय ने दोबारा परीक्षा नहीं कराने का फैसला किया है. Also Read - CTET 2021 Registration: इस दिन से शुरू होगी CTET 2021 के लिए आवेदन प्रक्रिया, इस Direct Link से करें अप्लाई

Also Read - CBSE 10th, 12th Admit Card 2021 Released: CBSE ने जारी किया कंपार्टमेंट परीक्षा का एडमिट कार्ड, ऐसे करें डाउनलोड

गौरतलब है कि सीबीएसई ने परीक्षा का एलान तो कर दिया था लेकिन एग्जाम की डेट नहीं बताई थी. दिल्ली हाईकोर्ट ने सोमवार को सुनवाई के दौरान पूछा था कि परीक्षाएं दोबारा आयोजित होंगी या नहीं इस पर निर्णय लेने में देर नहीं होनी चाहिए. साथ ही कोर्ट ने कहा कि अगर बोर्ड दोबारा परीक्षा कराने की सोच रहा है तो जुलाई से पहले आयोजित करे, ताकि जुलाई का शेड्यूल इससे प्रभावित ना हो.

सीबीएसई के 10वीं के मैथ्स के पेपर लीक होने की घटना पर पीएम मोदी ने भी सख्त नाराजगी जताई थी. कुछ दिन पहले फिर से पेपर करवाने पर केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा था कि मैं समझ सकता हूं कि इस फैसले से बच्चों और उनके अभिभावकों को तकलीफ होगी.

पेपर लीक मामले की जांच एसआईटी कर रही है. रविवार को दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट ने दो शिक्षकों और एक ट्यूशन टीचर को पुलिस कस्टडी में भेज दिया. इस मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने कोर्ट से तीनों आरोपियों को पुलिस कस्टडी में भेजने की मांग की थी जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया. इस मामले में पुलिस ने दिल्ली के प्राइवेट स्कूल में पढ़ाने वाले दो शिक्षकों ऋषभ और रोहित को गिरफ्तार किया है.

इसके अलावा पुलिस ने तौकीर को भी पेपर लीक मामले में गिरफ्तार किया है जो कोचिंग सेंटर में ट्यूटर है. पुलिस के मुताबिक ऋषभ और रोहित ने 12वीं का इकोनॉमिक्स का पेपर तौकीर को दिया था, जिसे तौकीर ने स्टूडेंट्स के बीच लीक कर दिया.