नई दिल्लीः गृह मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि जनगणना 2021 और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) अद्यतन की तैयारी जोर-शोर से चल रही है और यह प्रक्रिया एक अप्रैल से शुरू हो जाएगी. जनगणना 2021 और एनपीआर अद्यतन की तैयारियों को लेकर जनगणना निदेशकों के सम्मेलन के बाद मंत्रालय ने यह जानकारी दी. Also Read - Corona के खिलाफ जंग: PM मोदी को होती है हर केस की जानकारी, वार रूम की तरह काम कर रहा PMO

मंत्रालय ने एक वक्तव्य में कहा, ‘‘जनगणना और एनपीआर अद्यतन की तैयारियां पूरे जोरों पर हैं और प्रक्रिया एक अप्रैल से शुरू कर दी जाएगी.’’ जनगणना के लिए मकानों की सूची बनाने का चरण एक अप्रैल से 30 सितंबर तक पूरे देश में चलेगा. Also Read - PM मोदी ने सोशल वर्कर्स से कहा, Coronavirus पर गलत सूचना और अंधविश्वास को दूर करें

दिल्ली की हिंसा ‘एकतरफा और सुनियोजित’ थी, हजारों लोगों ने गांवों की तरफ किया पलायनः रिपोर्ट Also Read - Covid-19: कोरोनावायरस से लड़ने के लिए सांसद निधि से 35 सांसद देंगे एक-एक करोड़ रुपये

गृह मंत्रालय का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब देश के कई जगहों पर संशोधित नागरिकता कानून(CAA), एनआरसी और एनपीआर को लेकर लोगों में गुस्सा देखा जा रहा है. इन मुद्दों को लेकर देश के कई बड़े शहरों में हिंसा की घटनाए भी सामने आई हैं. अब यह देखना होगा कि सरकार अप्रैल से शुरू होने वाली एनपीआर प्रणाली को किस प्रकार से लागू करती है.

हालांकि सरकार के लिए यह भी काफी बड़ी मुश्किल है कि वह लोगों को सीएए , एनआरसी और एनपीआर के बीच अंतर को भी भली भांति समझा सके. सरकार के कई प्रयासों के बाद भी लोग अभी पूरी तरह से इनके बीच में अंतर समझ में नाकाम रहे हैं.