नई दिल्ली: केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को एक पत्र लिखकर भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) और दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) के अधिकारियों की एक संयुक्त समिति गठित करने को कहा है ताकि राष्ट्रीय राजधानी में पाइप से आपूर्ति होने वाले पानी की गुणवत्ता की जांच हो सके.


पासवान ने एक ट्वीट में कहा कि जल के नमूने की जांच एनएबीएल से मान्यताप्राप्त प्रयोगशाला में होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि बीआईएस नौ दिसंबर को राज्यों के जल आपूर्ति अधिकारियों के लिए एक कार्यशाला का आयोजन करेगी और दिल्ली के मुख्यमंत्री को अपने अधिकारियों को इस कार्यशाला में भेजना चाहिए.

इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि पानी के मुद्दे पर मैं राजनीति नहीं करना चाहता. उनका (भाजपा एवं केंद्र का) शहर के पानी से कोई लेना देना नहीं है और वे सिर्फ ओछी राजनीति कर रहे हैं. मैं आपके (मीडिया के) माध्यम से यह अनुरोध करना चाहता हूं कि अगर कहीं भी गंदे पानी की आपूर्ति किए जाने की शिकायत आती है तो दिल्ली सरकार उसका समाधान करेगी. केजरीवाल ने कहा कि 2015 में आप सरकार ने जब कार्यभार संभाला, उस वक्त करीब 2,300 जगहों पर पानी की गुणवत्ता से संबंधित मुद्दे थे लेकिन अब यह संख्या घटकर 125 रह गई है.