नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने बाबा साहब भीम राव अंबेडकर की जयंती के अवसर पर 14 अप्रैल को सभी कार्यालयों में छुट्टी की घोषणा की है. कार्मिक मंत्रालय (Ministry of Personnel) ने एक आदेश जारी कर इस बात की जानकारी दी है. इस आदेश के मुताबिक, औद्योगिक प्रतिष्ठानों समेत देशभर में सभी केंद्रीय कार्यालय और विभागों की छुट्टी रहेगी. केंद्र सरकार ने बैंको के लिए भी यह छुट्टी अधिसूचित की है. इसलिए केंद्र सरकार के कार्यालय एवं बैंकों में 14 अप्रैल को छुट्टी होगी . Also Read - अनुष्‍का शर्मा की सनशाइन वाली पिक्‍चर पर फ्लैट हुए विराट कोहली, इंस्‍टाग्राम पर इस अंदाज में दिया जवाब

गौरतलब है कि भीमराव रामजी अंबेडकर, बाबा साहेब अंबेडकर नाम से लोकप्रिय थे. भारत को संविधान देने वाले डॉ भीमराव का जन्म 14 अप्रैल 1891 को मध्यप्रदेश के एक गांव में हुआ था. वे भारतीय अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ और समाजसुधारक थे. अंबेडकर भारतीय इतिहास के ऐसे महान व्यक्ति हैं जिन्होंने दलितों को सामाजिक अधिकार दिलाने के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया. उन्होंने दलित बौद्ध आंदोलन को प्रेरित किया और अछूतों (दलितों) से सामाजिक भेदभाव के विरुद्ध अभियान चलाया था. श्रमिकों, किसानों और महिलाओं के अधिकारों का समर्थन भी किया था. दलितों को सामाजिक स्तर पर सम्मान दिलाने के लिए उन्होंने काफी प्रयास किया था. वे स्वतंत्र भारत के प्रथम कानून मंत्री और भारतीय संविधान के प्रमुख वास्तुकार थे. Also Read - इस दिन खुलेगा प्रसिद्ध बालाजी मंदिर, हर दिन 6,000 भक्त कर पाएंगे दर्शन

उन्होंने कोलंबिया विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स दोनों ही विश्वविद्यालयों से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधियाँ प्राप्त कीं और विधि, अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान में शोध कार्य भी किए थे. व्यावसायिक जीवन के आरम्भिक भाग में ये अर्थशास्त्र के प्रोफेसर रहे एवं वकालत भी की तथा बाद का अपना जीवन राजनीतिक गतिविधियों में बिताया. दलितों के लिए सामाजिक स्वतंत्रता की वकालत और भारत के निर्माण में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा.