नई दिल्‍ली: केंद्र सरकार ने सुरक्षा बलों को निर्देश जारी कर कहा है कि रमजान के दौरान जम्‍मू कश्‍मीर में ऑपरेशन नहीं चलाएं. हालांकि, आतंकियों के हमलों और आम लोगों की सुरक्षा पर खतरा हो तो सुरक्षा बलों को अभियान चलाने की छूट होगी. रमजान के महीने में शांति का माहौल बनाए रखने के लिए यह फैसला लिया गया है.

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने यह निर्देश सुरक्षा बलों को दिया है. राज्‍य की मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने फैसले का स्‍वागत करते हुए इसके लिए गृह मंत्री और प्रधानमंत्री को धन्‍यवाद दिया है. नेशनल कॉन्‍फ्रेंस के नेता और पूर्व मुख्‍यमंत्री फारुक अब्‍दुल्‍ला ने भी फैसले का स्‍वागत किया है. उन्‍होंने कहा कि यह लोगों के दिल जीतने वाला फैसला है.

हालांकि, सरकार द्वारा निर्देश जारी करने के साथ ही इसका विरोध शुरू हो गया है. कुछ संगठनों और राजनीतिक समूहों ने कहा है कि आतंकी सुरक्षाबलों के इस सीजफायर का फायदा उठाकर बड़ी कार्रवाई को अंजाम दे सकते हैं. वे सरकार के इस फैसले को सुरक्षाबलों को मनोबल गिराने वाला बता रहे हैं. जम्‍मू कश्‍मीर के पूर्व डीजीपी ने कहा है कि यह फैसला देश हित में नहीं है. आतंकवाद की पीड़ा झेल रहे इस राज्‍य में इस तरह के जोखिम नहीं लिए जा सकते. वहीं, पूर्व सेना प्रमुख जनरल दीपक कपूर ने कहा है कि यह सुरक्षाबलों को रोकने वाला फैसला नहीं है.