नई दिल्ली: केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शनिवार को कहा कि योग के माध्यम से स्वस्थ जीवनशैली को बढ़ावा देने की दिशा में योगदान करने वाले मीडिया संस्थानों को सरकार ने पुस्कृत करने का फैसला किया है. उन्होंने कहा कि 33 पुरस्कार दिये जायेंगे जिनमें से अखबारों, टीवी और रेडियो चैनलों के लिये 11-11 पुरस्कार हैं. छह सदस्यीय निर्णायक मंडल सभी 23 भाषाओं में मिली प्रविष्टियों पर विचार करेगा.

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पुरस्कार के लिये 10 से 25 जून तक योग पर मीडिया के प्रचार-प्रसार अभियान पर विचार किया जायेगा. हर साल 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है. उन्होंने कहा, ‘‘योग दुनिया के लिये भारत के उपहारों में से एक है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने का प्रस्ताव दिया तब संयुक्त राष्ट्र और तमाम देशों ने इस संबंध में सकारात्मक प्रतिक्रिया दी.’’

उन्होंने कहा, ‘‘हर साल 200 से अधिक देश अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाते हैं. इस साल भी मुझे आशा है कि लाखों लोग इसमें हिस्सा लेंगे.’’ मंत्री ने कहा, ‘‘हमने देखा है कि कई मीडिया संस्थान भी योग के माध्यम से स्वस्थ जीवनशैली को बढ़ावा देने में योगदान कर रहे हैं… वे अपना अभियान चला रहे हैं. इसलिए हमने उन मीडिया संस्थानों की सेवा और (योग) अभियान को मान्यता देने का फैसला किया है.’’

त्रिसूर: 112 किलो कमल के फूलों से तौले गए PM मोदी, कहा- केरल उतना ही मेरा, जितना बनारस

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में राष्ट्रीय कार्यक्रमों के आयोजन के लिये सरकार ने इस साल दिल्ली, शिमला, मैसूर, अहमदाबाद और रांची को सूचीबद्ध किया है. पिछले साल अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का मुख्य कार्यक्रम देहरादून में वन अनुसंधान संस्थान के मैदान में आयोजित हुआ था, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिस्सा लिया था. पहला अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2015 में नयी दिल्ली में राजपथ पर आयोजित हुआ था, जिसमें 191 देशों ने हिस्सा लिया था. 2016 में मुख्य कार्यक्रम चंडीगढ़ में आयोजित हुआ था और 2017 में यह लखनऊ में आयोजित हुआ था.