नई दिल्ली. भीड़ द्वारा पीट-पीटकर मार डालने (मॉब-लिंचिंग) की घटनाओं पर एक तरफ पीएम मोदी और केंद्र सरकार सख्त कदम उठा रही है. वहीं केंद्र सरकार में मंत्री और झारखंड के हजारीबाग से भाजपा सांसद जयंत सिन्हा मॉब-लिंचिंग के आरोपियों को जमानत मिलने पर फूल-माला पहना रहे हैं. मिठाई खिला रहे हैं. केंद्रीय उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने शुक्रवार को पिछले वर्ष रामगढ़ में मीट-कारोबारी को पीट-पीटकर मार डालने वाले आठ आरोपियों का सम्मान किया. केंद्रीय मंत्री के हजारीबाग स्थित अपने आवास पर इन आरोपियों का सम्मान करने वाली तस्वीर के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद विपक्षी दलों की बयानबाजी शुरू हो गई है. झारखंड के पूर्व सीएम और झामुमो के नेता हेमंत सोरेन ने जयंत सिन्हा की इन तस्वीरों को लेकर उनके विश्व विख्यात हॉर्वर्ड यूनिवर्सिटी से पढ़े होने को लेकर तंज कसा है. सोरेन ने इस बाबत किए गए ट्वीट में हॉर्वर्ड यूनिवर्सिटी को जानकारी दी है कि विवि का एक एलुमिनी इस तरह की घिनौनी हरकत कर रहा है. सोरेन के अलावा कई अन्य नेताओं ने भी केंद्रीय मंत्री की इस तस्वीर को लेकर तीखी प्रतिक्रियाएं दी हैं. हालांकि मामले पर जयंत सिन्हा ने कहा कि इस केस में निचली अदालत के फैसले को हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया. एक बार फिर से इस मामले की सुनवाई की जाएगी.

धुले लिंचिंग पर कांग्रेस का बीजेपी पर निशाना, कहा- मोदी सरकार में हो रहा है लिंचिंग मूवमेंट

आरोपियों को निचली अदालत ने दी थी उम्रकैद की सजा
पिछले वर्ष 29 जून को झारखंड के रामगढ़ जिले के बाजार टांड़ में कुछ लोगों ने मीट कारोबारी 40 वर्षीय अलीमुद्दीन अंसारी की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. इन लोगों को संदेह था कि अंसारी गायों की तस्करी कर रहा है. वारदात के बाद हुई फोरेंसिक जांच में पता चला कि अंसारी कारोबार के सिलसिले में ‘बीफ’ लेकर जा रहा था. जांच के दौरान इस साल मार्च में एक फास्ट ट्रैक अदालत ने इस मामले में 11 लोगों को सामूहिक हत्या का दोषी मानते हुए उम्र कैद की सजा सुनाई थी. लेकिन पिछले सप्ताह झारखंड हाईकोर्ट ने आठ आरोपियों के खिलाफ सुनाए गए निचली अदालत के फैसले को खारिज कर दिया. इन 8 आरोपियों में एक भाजपा कार्यकर्ता भी शामिल है. कोर्ट से जमानत मिलने के बाद ये सभी 8 आरोपी हजारीबाग सेंट्रल जेल से निकलकर केंद्रीय मंत्री से मिलने उनके आवास पर पहुंचे थे. केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने इन्हीं आरोपियों का फूल-माला पहनाकर स्वागत किया और उन्हें मिठाई खिलाई.

'मॉब-लिंचिंग' मामला: WhatsApp ने दिया ऑफर, फर्जी खबरें रोकने का तरीका सुझाएं, मिलेंगे 35 लाख रुपए

'मॉब-लिंचिंग' मामला: WhatsApp ने दिया ऑफर, फर्जी खबरें रोकने का तरीका सुझाएं, मिलेंगे 35 लाख रुपए

केंद्रीय मंत्री ने मामले की जांच पर उठाया था सवाल
रामगढ़ मॉब-लिंचिंग केस की जांच को लेकर केंद्रीय उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा शुरू से पुलिस जांच के खिलाफ रहे हैं. हमारी सहयोगी वेबसाइट डीएनए के अनुसार, इस मामले के आरोपियों के खिलाफ जांच को लेकर केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा शुरू से सवाल उठाते रहे हैं. इसी साल अप्रैल में उन्होंने पुलिस जांच पर सवाल उठाते हुए इस मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की थी. सिन्हा ने निचली अदालत द्वारा इन आरोपियों को उम्रकैद की सजा दिए जाने पर कहा था कि इस मामले में इंसाफ नहीं हुआ. जयंत सिन्हा ने उस वक्त कहा था, ‘न्यायिक प्रक्रिया का वे पूरा सम्मान करते हैं, लेकिन जहां तक रामगढ़ मॉब-लिंचिंग की बात है, इस मामले में इंसाफ नहीं हुआ.’ सिन्हा ने पुलिस की पड़ताल पर सवाल उठाते हुए कहा था, ‘मैं पुलिस अफसर नहीं हूं और मैंने इस मामले की विस्तृत जांच भी नहीं की है, लेकिन मामले से संबंधित तथ्यों को देखने और लोगों से मिली जानकारी के बाद मैं समझता हूं कि इस केस में इंसाफ नहीं किया गया है.’ वहीं आज इस मामले में केंद्रीय मंत्री ने फिर कहा है कि इस मामले की हाईकोर्ट में एक बार फिर से सुनवाई की जाएगी.

आरोपियों के सम्मान की विपक्षी दलों ने की निंदा
जयंत सिन्हा द्वारा मॉब-लिंचिंग के आरोपियों का सम्मान करने की झारखंड के सभी विपक्षी दलों ने निंदा की है. पूर्व सीएम हेमंत सोरेन ने एक टीवी चैनल से बातचीत में कहा, ‘यह बहुत ही गंभीर मामला है. सिन्हा ने जो किया, वह एक केंद्रीय मंत्री को शोभा नहीं देता है.’ मामले को लेकर केंद्र की मोदी सरकार को घेरे में लेते हुए कम्युनिस्ट नेता सीताराम येचुरी ने भाजपा की विचारधारा पर सवाल उठाया. उन्होंने कहा, ‘जब एक केंद्रीय मंत्री हत्या के आरोपियों का सम्मान करता है, तो हमें यह समझने के लिए बहुत दूर देखने की जरूरत नहीं है कि कौन सी विचारधारा हमारे सामाजिक ताने-बाने को तोड़ रही है.’ इधर, झारखंड प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार ने भी मामले को लेकर भाजपा पर निशाना साधा. अजय कुमार ने कहा, ‘यही भाजपा की सच्चाई है. इस तरह के तत्वों का समर्थन करना निंदनीय है. भाजपा के नेता सिर्फ चुनाव जीतना चाहते हैं और इसके लिए वे किसी भी हद तक जा सकते हैं.’ केंद्रीय मंत्री द्वारा मॉब-लिंचिंग के आरोपियों की तस्वीर वायरल होने के लेकर यूथ कांग्रेस ने भी ट्वीट किया है. यूथ कांग्रेस ने अपने ट्वीट में कहा है, ‘देश के 10 राज्यों में मॉब-लिंचिंग की घटनाओं में 27 लोगों की हत्या हो चुकी है और भाजपा के मंत्री ऐसे मामलों के आरोपियों को फूल-माला पहना रहे हैं. कैसे जनप्रतिनिधि हैं ये?’