पुणे: सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) आदर पूनावाला ने सवाल किया है कि क्या सरकार के पास कोरोना वायरस के टीके को खरीदने और उसके वितरण के लिए 80,000 करोड़ रुपये का इंतजाम करेगी. एसआईआई द्वारा ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के साथ मिलकर कोरोना वायरस के संभावित टीके का उत्पादन कर रही है.Also Read - 12 से 17 साल के बच्चों को दी जाएगी मॉडर्ना की कोरोना वैक्सीन! यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी ने की सिफारिश

पूनावाला ने ट्वीट किया, ‘‘झटपट सवाल: क्या भारत सरकार के पास अगले एक साल के दौरान 80,000 करोड़ रुपये उपलब्ध होंगे? भारत में सभी के लिए टीका खरीदने और उसका वितरण करने के लिए इतनी राशि की जरूरत होगी.’’ उन्होंने इसमें प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) को भी टैग किया है. पूनावाला ने कहा कि अगली यह चुनौती है जिससे हमें जूझना होगा. Also Read - महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की कमी से कोरोना के किसी मरीज की मौत नहीं हुई: स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे

उन्होंने कहा, ‘‘मैं यह सवाल इसलिए पूछ रहा हूं क्योंकि भारत और विदेश के वैक्सीन विनिर्माता खरीद और वितरण के मामले में हमारे देश की जरूरत को पूरा कर पाएं, इसके लिए योजना और दिशा की जरूरत है.’’ एसआईआई ने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के जेनर इंस्टिट्यूट द्वारा विकसित संभावित टीके का ब्रिटेन-स्वीडन की फार्मा कंपनी एस्ट्रजेनेका के साथ सहयोग में विनिर्माण के लिए करार किया है. Also Read - RBI Rules On Salary Transfer: अब छुट्टी के दिन भी आपके खाते में आएगी सैलरी, RBI ने बदले नियम, 1 अगस्त से होंगे लागू

इससे पहले एसआईआई ने घोषणा की थी कि वह भारत सहित निम्न और मध्यम आय वर्ग के देशों को यह टीका तीन डॉलर में उपलब्ध कराएगी.

(इनपुट भाषा)