Chandan Mitra passed away late last night in Delhi : पूर्व राज्यसभा सांसद और वरिष्ठ पत्रकार चंदन मित्रा का 65 साल की उम्र में कल देर रात दिल्ली में निधन हो गया है. उनके बेटे कुषाण मित्रा ने इस बारे में पुष्टि की है.उनके बेटे कुषाण ने अपने ट्वीट किया, “चूंकि यह पहले से ही बाहर है, पिताजी का कल देर रात निधन हो गया. वह कुछ समय से बीमार थे.”
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चंदन मित्रा के निधन पर शोक जताया है.  राज्य सभा के पूर्व सदस्य को भाजपा नेता लाल कृष्ण आडवाणी का करीबी माना जाता था.Also Read - राज्यसभा भेजे जाएंगे बाबुल सुप्रियो? अर्पिता घोष की जगह टिकट दे सकती है तृणमूल कांग्रेस

बता दें कि कुछ समय से बीमार चल रहे संपादक- पूर्व राज्‍यसभा चंदन मित्रा का कल देर रात दिल्‍ली में निधन हो गया.  कुशन मित्रा ने कहा कि उनके पिता पिछले कुछ वक्त से बीमार थे. उन्होंने ट्वीट किया, “मेरे पिता जी का कल देर रात निधन हो गया. वह पिछले कुछ समय से कष्ट में थे.” Also Read - अंतर्कलह से जूझ रही कांग्रेस से भाजपा का मुकाबला करने की उम्मीद करना बेमानी: उमर अब्दुल्ला

Also Read - पंजाब के बाद क्या राजस्थान और छत्तीसगढ़ में होगा उलटफेर, कैसी है कांग्रेस की तैयारी?

चंदन मित्रा वर्तमान में टीएससी में थे. चंदन मित्रा एक सीनियर पत्रकार, दिल्ली में द पायनियर अखबार के पूर्व संपादक और प्रबंध निदेशक थे. उन्हें अगस्त 2003 से अगस्त 2009 के दौरान राज्य सभा के सदस्य के रूप में नामित किया गया था. जून 2010 में मध्य प्रदेश से बीजेपी ने राज्यसभा में एक और कार्यकाल के लिए मध्‍य प्रदेश से भेजा था.

राष्ट्रपति ने मित्रा के निधन को बयाया भारतीय पत्रकारिता में एक शून्य
राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने ट्वीट किया, “चंदन मित्रा एक उत्कृष्ट पत्रकार थे और एक सांसद के रूप में उनके कार्यकाल ने उनकी प्रतिष्ठा में इजाफा किया. हिंदी हृदयभूमि और इसके इतिहास की उनकी समझ गहरी थी. उनका निधन भारतीय पत्रकारिता में एक शून्य छोड़ देता है.”

प्रधानमंत्री मोदी ने चंदन मित्रा के निधन पर शोक जताया

पीएम मोदी ने ट्वीवीट करके चंदन मित्रा के न‍िधन पर संवेदना व्‍यक्‍त की है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट क‍िया,  चंदन मित्रा जी को उनकी बुद्धि और अंतर्दृष्टि के लिए याद किया जाएगा. उन्होंने मीडिया के साथ-साथ राजनीति की दुनिया में भी अपनी पहचान बनाई. उनके निधन से आहत हूं. उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना.

भाजपा सांसद स्वपन दासगुप्ता ने मित्रा के साथ 1972 की एक तस्वीर पोस्ट की और कामना की कि उनका दोस्त जहां भी रहे, खुश रहे.  उन्होंने ट्वीट किया, “मैंने अपने करीबी मित्र – पायनियर के संपादक एवं पूर्व सांसद चंदन मित्रा को आज सुबह खो दिया. हम ला मार्टिनियर के विद्यार्थियों के तौर पर एक साथ थे और सेंट स्टीफंस और ऑक्सफोर्ड गए थे. हमने एक ही वक्त पर पत्रकारिता शुरू की थी और अयोध्या एवं भगवा लहर के उत्साह को साथ में महसूस किया था.”  दासगुप्ता ने कहा, “मैं 1972 की एक स्कूल यात्रा के दौरान की अपनी और चंदन मित्रा की तस्वीर पोस्ट कर रहा हूं. मेरे प्रिय मित्र जहां भी रहो, खुश रहो. ओम शांति.”