नई दिल्ली. राज्यसभा में एक बार नामित और दूसरी बार भाजपा की तरफ से निर्वाचित, वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व राज्यसभा सदस्य चंदन मित्रा ने भाजपा छोड़ दी है. अब वे ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं. मित्रा की राज्यसभा सदस्यता 2016 में समाप्त हुई है और उन्होंने मंगलवार को ही भाजपा की सदस्यता से भी त्यागपत्र दे दिया. डीएनए अखबार में छपी खबर के मुताबिक, भाजपा छोड़ने के बाद चंदन मित्रा के तृणमूल कांग्रेस ज्वाइन करने की बात कही जा रही है. हालांकि तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने इस संबंध में किसी भी तरह की जानकारी होने से इनकार किया है. Also Read - यह 'नो-डेटा' सरकार है, पीएम की लोकप्रियता अब पहले जैसी नहीं रही: कांग्रेस

Also Read - बिहार चुनाव से पहले पुलिस मुख्यालय का अजीबोगरीब फरमान जारी, मचा सियासी बवाल

आडवाणी के करीबी रहे हैं मित्रा Also Read - बीजेपी की पूर्व MLA पारुल साहू कांग्रेस में शामिल, मंत्री के खिलाफ लड़ सकती हैं चुनाव

पायनियर अखबार के प्रबंध निदेशक और संपादक, मित्रा को भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी का करीबी माना जाता है. विभिन्न मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, यही वजह थी कि वर्तमान भाजपा नेतृत्व के साथ उनका ताड़तम्य नहीं बैठ सका. वहीं, पिछले दिनों यूपी में हुए कैराना लोकसभा के उपचुनाव में भाजपा की हार के बाद चंदन मित्रा का पार्टी विरोधी बयान भी, उनके इस्तीफे की वजहों में से एक माना जा रहा है. तृणमूल कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने डीएनए को बताया, ‘चंदन मित्रा को भाजपा के पुराने दिनों का नेता कहा जाता है. इसी वजह से पार्टी की नई ब्रिगेड में उनको तवज्जो नहीं मिल रही थी. यही कारण हैं कि मित्रा ने भाजपा को अलविदा कह दिया है.’ तृणमूल नेता ने अखबार को बताया कि सियासी गलियारों में चंदन मित्रा के कांग्रेस में जाने की भी अफवाहें हैं.

दो बार राज्‍यसभा सांसद रहे चंदन मित्रा छोड़ सकते हैं बीजेपी का साथ, इस्‍तीफा देने की चर्चा

कैराना की हार पर पार्टी को चेताया था

अंग्रेजी अखबार पायनियर के संपादक चंदन मित्रा ने यूपी में कैराना लोकसभा उपचुनाव में भाजपा की हार पर तीखी टिप्पणी की थी. कैराना लोकसभा उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी की हार के बाद चंदन मित्रा ने कहा था कि पार्टी ने गन्‍ना किसानों की समस्याओं की ओर ध्‍यान नहीं दिया. इसी कारण उसे चुनाव में नुकसान उठाना पड़ा. उपचुनाव में मिली हार को भाजपा के लिए बड़ा झटका बताते हुए उन्‍होंने कहा था कि अगर विपक्ष इसी प्रकार एकजुट होता रहा तो वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में भाजपा की वापसी आसान नहीं होगी. उन्होंने इसे ‘सीरियस सेटबैक’ बताया था. चंदन मित्रा के ऐसा बयान देने के बाद ही भाजपा में अंदरूनी तौर पर उनके खिलाफ विरोध दिखा था.