नोएडा: गौतमबुध नगर के जिलाधिकारी बृजेश नारायण सिंह छह जनवरी को लूट के बाद हुई हत्या के पीड़ित गौरव चंदेल के घर वालों से मिलने पहुंचे और परिजन को मुख्यमंत्री राहत कोष से 20 लाख रुपये की सहायता राशि का चेक दिया. जिलाधिकारी के साथ मेरठ रेंज के पुलिस महानिरीक्षक आलोक सिंह भी वहां गए थे. पुलिस और प्रशासन को साथ आया देख लोगों ने घटना के बाद क्षेत्र में व्याप्त डर के बारे मे उनके बातचीत की और सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा. कुछ लोगों ने तो यहां तक कह डाला कि अगर हालात ऐसे रहे तो वे यहां से मकान बेचकर कहीं और चले जाएंगे.

जिलाधिकारी सिंह ने बताया कि मृतक के परिजनों को सामाजिक व आर्थिक सहायता देने का उत्तर प्रदेश सरकार ने भरोसा दिलाया था, जिसे आज पूरा किया गया. उन्होंने बताया कि चंदेल परिवार की सुरक्षा के लिए एक गनर उनके घर पर तैनात कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि इस मामले के खुलासे के लिए उत्तर प्रदेश एसटीएफ सहित पांच टीमें लगाई गई है. उन्होंने दावा किया कि घटना का जल्द खुलासा कर दिया जाएगा.

योगी सरकार पर प्रियंका गांधी का आरोप, गौरव चंदेल हत्याकांड में हो रही लापरवाही

वहीं चंदेल के परिजन ने पुलिस की कार्यप्रणाली पर रोष जताते हुए, अधिकारियों से मांग की है कि इस मामले की जांच उच्च स्तरीय टीम से कराई जाए. उनकी मांग है, कि उन्हें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलवाया जाए. चंदेल के परिजनों से मिलने के लिए भाजपा विधायक पंकज सिंह शनिवार को गौर सिटी स्थित उनके घर पहुंचे थे. मृतक की पत्नी प्रीति चंदेल ने पंकज से भी मुख्यमंत्री से मिलवाने का अनुरोध किया था. सात दिन बीत जाने के बावजूद भी गौरव चंदेल हत्याकांड का खुलासा ना होने से, उनके परिजनों तथा ग्रेटर नोएडा में रहने वाले लोगों में भारी रोष है.