चंडीगढ़: पंजाब की सरकारी एजेंसियों ने अन्य राज्यों से यहां अवैध रूप से लाई गई पांच लाख से ज्यादा धान की बोरियां जब्त की हैं, इन्हें जारी खरीफ सीजन में बेचा जाना था. एक मंत्री ने शनिवार को इस बात की जानकारी दी. पंजाब के खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री भारत भूषण आशु ने शनिवार को खुलासा किया कि बीते दो महीने (एक अक्टूबर से 30 नवंबर) में पंजाब में अन्य राज्यों से लाई गई 5.03 लाख धान की बोरियां जब्त की गई हैं. Also Read - किसानों के मुद्दे पर भिड़े दो सीएम, अमरिंदर सिंह बोले- मनोहर लाल खट्टर मेरे मोबाइल पर फोन कर सकते थे

Also Read - सरकार किसान यूनियनों से बात के लिए तैयार, राजनीतिक दल पॉलिटिक्‍स न करें: केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर

यूपी: चित्रकूट में दलित महिला को जिंदा जलाकर मारा, 2 गिरफ्तार, 4 आरोपी महिलाएं फरार Also Read - Kisan Andolan Latest Update: ‘दिल्ली चलो’ प्रदर्शन में शामिल होने के लिए पंजाब से निकले और किसान, 50,000 से ज्यादा बताई जा रही संख्या

आशु ने कहा, “बरनाला में देर रात एक अभियान में पंजाब के खाद्य आपूर्ति विभाग की सर्तकता टीम ने अन्य राज्यों से अवैध रूप से धान और चावल ला रहे छह ट्रकों को पकड़ा, इन्हें पंजाब के अनाज बाजार में अवैध रूप से खपाया जाना था. धान और चावल की तीन हजार बोरियां जब्त की गई हैं. कृषि संपन्न पंजाब ने इस सीजन में अभी तक 170 लाख टन से ज्यादा धान का उत्पादन किया है.’

मुक्ति मार्च से किसानों को क्या होगा हासिल, एक के बाद एक आंदोलन से मिलेगा कोई फायदा?

मंत्री ने दावा किया, “विभाग बारीकी से नजर बनाए हुए है और हमारे अधिकारियों ने अन्य राज्यों से पंजाब की मंडियों में चावल खपाने के सभी प्रयासों को नाकाम किया है. उन्होंने कहा कि पंजाब के व्यापारी अवैध रूप से अन्य राज्यों से सस्ती दरों पर धान और चावल ला रहे हैं और उन्हें पंजाब के अनाज बाजारों में बेचने का प्रयास कर रहे हैं. मंत्री ने कहा कि इस अवैध गतिविधि के लिए व्यापारियों पर मामला दर्ज किया गया है. आशु ने जोर देकर कहा, “जब तक पूरा अभियान समाप्त नहीं हो जाता तब तक हम शांत नहीं बैठेंगे.’