नई दिल्लीः शुक्रवार की रात को चन्द्रयान 2 को चन्द्रमा पर उतरना था और इसकी लाइव लैडिंग देखने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसरो के कंट्रोल रूम बेंगलुरु पहुंचे थे. पीएम मोदी के अलावा 60 स्कूली बच्चे भी चन्द्रयान की लाइव लैडिंग देखने पहुंचे थे. इन सभी बच्चों का सेलेक्शन इसरों ने स्पेस क्विज कंपटीशन के माध्यम से किया था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्कूली बच्चों के साथ बातचीत की और उनके सवालों के जवाब भी दिए.

‘विक्रम’ लैंडर से संपर्क की उम्मीद नहीं, जानें किस हाल में है चांद के आसपास मौजूद ऑर्बिटर

इस बीच एक बच्चे ने PM मोदी से ऐसा सवाल किया, जिसे सुनकर खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी हंस पड़े. दरअसल, भारत के मून लैंडर विक्रम की लैंडिंग देखने पहुंचे बच्चों में से एक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कहा कि वह देश का राष्ट्रपति बनना चाहता है और वह राष्ट्रपति कैसे बन सकता है.

इसरो चीफ हुए भावुक तो पीएम मोदी ने लगा लिया गले, कुछ इस तरह दिया हौसला, देखें VIDEO

छात्र के सवाल पर पीएम मोदी ने हंसते हुए बच्चे से पूछा कि वह राष्ट्रपति क्यों बनना चाहता है, प्रधानमंत्री क्यों नहीं. पीएम के इस सवाल पर वहां मौजूद सभी स्कूली बच्चे और खुद पीएम मोदी भी हंस पड़े. पीएम ने इस बच्चे को ऑटोग्राफ भी दिया. एक दूसरे छात्र ने पीएम से पूछा कि ऐसा क्यों होता है कि जब कोई नया क्विज प्रोग्राम आता है तो हम सबके मन में एक नई खुशी होती है, लेकिन जब वो खत्म होता है तो हमारे मन में बहुत निराशा होती है. इस पर उन्होंने जवाब दिया कि हमें हमेशा ही बड़े सपने देखने चाहिए लेकिन ऐसा जरूरी नहीं है कि एक बार में ही हमें बड़ी सफलता मिल जाए.


पीएम मोदी ने वैज्ञानिकों से कहा- ‘आप कई रातों से नहीं सोए, आपको सलाम, हम चांद पर पहुंचने के इरादे से डिगे नहीं’

उन्होंने कहा कि हमें अपनी छोटी छोटी सफलताओं को जोड़ना चाहिए और इस बात को भूल जाना चाहिए कि हमने क्या खोया. उन्होंने बच्चों से कहा कि अगर हम अपनी लाइफ में खोई हुई चीजों को ही सोचते रहेंगे तो आपको हमेशा निराशा ही हाथ लगेगी. पीएम मोदी के साथ लाइव लैंडिंग देखने आए दो भूटान के छात्रों से उन्होंने कहा कि हम आशा करते हैं कि आपने यहां एन्ज्वाय किया होगा और नए दोस्त भी बनाए होंगे.

चंद्रयान-2: लैंडर से संपर्क टूटने पर वैज्ञानिक निराश, PM मोदी ने कहा- ‘आप पर गर्व, होप फॉर द बेस्ट’

आपको बता दें कि भारत के मून लैंडर विक्रम का इसरो के वैज्ञानिकों से संपर्क टूट गया है. चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का उस समय संपर्क टूट गया, जब वह शनिवार की सुबह चंद्रमा की सतह की ओर बढ़ रहा था. ऐसे में इस घटना पर निराश वैज्ञानिकों का हौंसला बढ़ाते हुए पीएम मोदी ने कहा कि, “उन्हें वैज्ञानिकों पर गर्व है. यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है. जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं, हौसला रखें और सर्वश्रेष्ठ की उम्मीद रखें. अपने रास्ते में निराशा को मत आने दीजिए.”